वेश्या को बीबी बनाकर सेक्सी अंदाज में चोदा


Click to Download this video!
loading...

हाय फेंड्स मेरा नाम गोलू है. मैं पिछले कई दिनों से सोच रहा था की आप सभी को अपनी सेक्सी स्टोरी सुनाऊ पर वक़्त ही नही मिलता था. अब जाकर मेरे को वक़्त मिला है. मैं एक 25 साल का बहोत ही सेक्सी लड़का हूँ. मैं बहोत गरीब था इसलिए एक होटल पर काम करने लगा. तभी मैं सिर्फ 8वीं तक पढ़ सका हूँ. अब तो मैं होटल चलाता हूँ और पैसे कमाता हूँ. रात को 11 बजे मेरा होटल बंद हो जाता है उसके बाद मैं तरह तरह की सेक्सी स्टोरीज पढ़ता हूँ और चुदाई वाली ब्लू फिल्म देखता हूँ.
फ्रेंड्स, मेरे को सेक्स करना बहोत पसंद है. मेरे पास इतना वक़्त नही होता की लड़की पटाऊ और उसे इधर उधर घुमाने ले जाऊं. इसलिए मैं हर हफ्ते वेश्या के पास जाकर खूब चुदाई करता हूँ और अपने खड़े लंड को शांत कर लेता हूँ. अब तो मेरे पास पैसे भी खूब रहते है इसलिए कोई टेंशन नही है. मेरे घर से कुछ दूर पर ही कुछ धंधेवाली औरते रहते है जो पैसे के लिए चुदवा लेती है. वो सब प्रोफेसनल रंडी होती है इसलिए हर तरह से मजा देती है. मैंने तो उनसे खूब मजा लिया है. पिछले हफ्ते की बात बता रहा हूँ. मैं शाम को वहां गया था. उस इलाके में करीब 30 औरते थी जीनको मैं चोद चूका था. अब मैं किसी नई औरत की तलाश कर रहा था. जैसे ही मैं उस बस्ती में पंहुचा तो सब वेश्याये मेरे को लाइन देने लगी क्यूंकि मैं उनको चोदकर अच्छे पैसे दे देता था. हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 
कुछ कुछ कस्टमर तो ऐसे होते थे जो सेक्स करके कम या ना के बराबर पैसे देते थे. पर मैं इमानदार आदमी था और सेक्स करने के बाद पूरे पैसे दे देता था. अगर मेरे को वेश्या पूरी तरह से संतुस्ट कर देती थी तो उसे 1000 रुपये तक मैं दे देता था. क्यूंकि मैं बड़े दिल का आदमी था. सब रंडियां मेरे को बड़े प्यार से बुलाने लगी.

वेश्या: गोलू!! अरे उधर कहाँ जा रहा है. याद नही मैंने तेरे को कितना मजा दिया था”
दूसरी वेश्या: गोलू!! मेरे राजा इधर आ. तू मेरा कस्टमर है. मेरे पास आ जा
तीसरी वेश्या: देख मैं बाकी रंडियों से कम पैसे लेती हूँ. गोलू! चल मेरे साथ चलकर बैठ जा (यानी मेरे साथ चुदाई कर)
फ्रेंड्स, इस तरह से सब वेश्याऐ मेरे को अपने पास बुलाने लगी. पर आज तो मेरा किसी नये चेहरे को चोदने का दिल था. वही लड़कियों को चोद चोदकर मैं ऊब गया था. मैं उस गली में पैदल पैदल चलता गया. मैं सिगरेट फूक रहा था. मेरे को सिगरेट पीने में बहोत मजा मिलता था. फिर सबसे आखिरी कोठे पर मेरे को बिलकुल नया चेहरा मिल गया. मैंने सिगरेट का आखिरी कश खींचा और फेंक दिया. वो रंडी किसी इंडियन बीबी की तरह दिख रही थी. इसे देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया. मैं उसके पास गया.
मैं: क्या नाम है तेरा??
वेश्या: सविता
मैं: तू खाली है???
वेश्या: हाँ खाली हूँ
मैं: तू मेरे लिए नया चेहरा है. तू मेरे को पसंद आ रही है. कितना पैसा लेगी???
वेश्या: 700 रुपया एक बार की चुदाई के
मैं: मैं तेरे को 1500 देगा पर तुझे मेरे से खूब प्यार करना होगा. जैसे एक बीबी अपने मर्द से करती है उसी तरह से करना होगा. बोल कर पाएगी???
वेश्या कुछ देर तक चुप रही. फिर मेरी आँखों में देखने लगी. अपुन का थोपड़ा भी शायद उसे पसंद आ रहा था. फिर वो अपना सर हिला दी. वो मान गई. उसके बाद हम दोनों का सौदा पट गया और वो मेरे को कोठे में ले गयी. भाई लोग, वो मेरे को अपनी खुद की बीबी माफिक लग रही थी, तभी अपुन ने आज उसे पसंद किया. उसने साड़ी पहनी थी. हम दोनों की बिस्तर पर चले गये. सविता का चेहरा काफी सेक्सी था. रंग की खूब गोरा था. मेरे को तो उसे देखते ही लव हो गया था. मैंने ही लव की शुरुवात कर दी. उसकी आँखे और पलकें तो बहोत सुंदर थी. हम दोनों बिस्तर पर बैठ गये. हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 

loading...

मैंने अपना मुंह आगे किया और उसके होठो से लगा दिया. फिर चुम्मा लेने लगा. आज सविता को मेरी बीबी की तरह एक्टिंग करके मेरे से चुदना था जैसे एक बीबी अपने मर्द से चुदती है. वो उठी और उसने अपने गले में एक नकली मंगल सूत्र पहन लिया. फिर उसने लाल रंग की चूड़ियाँ और कंगन हाथ मे पहन लिए. बिंदी माथे पर लगाकर फिर आयी और मेरे सामने खड़ी होकर उसने अपने बालो के बीचो बिच सिंदूर भर लिया. अब वो मेरे को शुद्ध बीबी लग रही थी.
मैं: जानम!! अब तू मेरे को असली बीबी लग रही है. अब तेरे साथ चुदाई करने में फुल मजा आएगा
उसके बाद वो मेरे करीब ही बैठ गयी. पता नही क्यों उसे देखकर लगता था की उसे कितने सालो से जानता हूँ. मैंने उसके चेहरे को नीचे से पकड़ा और अपने होठ उसके लबो पर लग दिए. फिर किस करने लगा. कुछ देर में सविता वेश्या भी ओपन हो गयी और फ्रेंकली मेरे से किस करने लगे. वो मेरे लिए आज नई रंडी थी. मेरा तो लंड मेरी जींस में ही खड़ा हो गया था. अब उसे मैंने बाहों में भर लिया और जबर्दस्त किस करने लगा. सविता के उपर के लब पतले थे जबकि नीचे के लब मोटे थे. मैं तो किसी चोदू आदमी की तरह दोनों होठो को चूसने लगा और दांत से काट काटकर रस लेने लगा. कुछ समय बाद सविता मेरे उपर ही झुक गयी और अपनी तरह से एक बीबी के जैसे मेरा चुमबन करने लगी. हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 
धीरे धीरे अब दोनों पलंग पर लेट गये. सविता वेश्या को अपने सीने पर अपुन ने लिटा लिया और उसके पेट और कमर पर हाथ घुमाने लगा. साड़ी का आंचल हटा के जब उसके पेट को देखा तो कितना मस्त और चिकना पेट था उसका. गरमा गर्म किस जारी था. वो भी आज मेरे को एक पत्नी वाला मजा देना चाहती थी. मैं भी आज उसे एक पति की तरह प्यार देना चाहता था. अब तो पूरी तरह से उसके रूप रंग और जवानी पर सेंटी हो गया था. वो घरेलु माल दिख रही थी. आज मेरे को उसे अच्छे से चोदना था.

loading...

अपने सीने पर लिटाकर मैं उसके बदन पर हर जगह हाथ लगा रहा था. उसके दूध 34 इंच के थे जो ठीक थे. वैसे तो मेरे को 36 इंच की तनी मदमस्त चूचियां पसंद है पर 34 इंच भी सही होता है. चूसने लायक दूध होता है. मैंने कुछ देर उसके ब्लौस के उपर से दोनों निपल्स को हाथ से दबाया और मसला. सविता “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..”करने लगी. शायद उसको भी मजा मिल रहा था. धीरे धीरे मेरा हाथ उसकी कमर के नीचे चला गया. उसकी साड़ी को पेटीकोट के साथ ही उपर को उठा दिया और उसकी जांघ पर मेरा दोनों हाथ नाचने लगा. अब तो सविता तेज तेज आवाजे निकालने लगी. बाकी रंडियों से अलग उसकी जांघ दूध की तरह सफ़ेद थी. अंदर की लाल लाल खून की नशे उपर से मेरे को दिख रही थी. मेरे को जन्नत का मजा मिलने लगा. मेरे हाथ काफी देर तक उसकी चिकनी जांघो को सहलाते रहे. फिर उसके दोनों चूतडो पर नाचने लगे. अब मैं सविता रंडी के गुप्तांगो को छू रहा था जिससे उसे कुछ कुछ हो रहा था.
मैं भी उसकी जवानी का कायल हो गया. उसके चूतड़ 36 इंच के बड़े बड़े और गुब्बारे की तरह फूले थे. कमाल के सेक्सी चूतड़ थे. मैंने दोनों हाथो से खूब हाथ फेरा दोनों चूतड पर जैसे कोई मर्द अपनी जोरू के साथ करता है. सविता रंडी “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ—ऊँ…ऊँ….”करने लगी. जिस तरह से वो सी सी कर रही थी उसे पूरा मजा मिल रहा था. मेरे को अच्छा लग था की वो भी मेरे संग मजा ले रही है. रबर जैसे लचीले और मुलायम चूतड़ों को मैंने हाथ से दबाना शुरू कर दिया. सविता की आँखें किसी गंजेड़ी की तरह चढ़ गयी और लाल होने लगी. मैं और सहला सहलाकर दबाने लगा. सविता रंडी को सेक्स का नशा चढ़ गया. वो मुझे मेरे गाल, चेहरे और आँखों पर जल्दी जल्दी किस करने लगा.

मेरे को समझ आ गया था की अब ये गरम हो चुकी है. अब इसको लंड की खुराक मिलनी चहिये. मैंने 15 मिनट उसके चूतड़ों को मन भरकर टच किया. जी भरकर अपने सीने पर उसके लिटाकर चूतडो को दबा दबाकर उसे गर्म कर दिया. फिर दोनों नंगे हो गये. दोनों ने अपने अपने वस्त्र उतार दिए.
सविता: चोदो गोलू!! मुझे जल्दी चोदो! आज तूने मेरे को किसी बीबी की तरह प्यार किया है. अब उस प्यार को पूरा कर दो. मेरे को कस के चोद डालो!!
मैं: रानी!! तू मेरे को इकदम घेरलू माल लगती है. वरना बाकी रंडियों को मैं इतनी देर प्यार नही करता हूँ
उसके बाद मैं सविता वेश्या के उपर आ गया. अब उसकी चूत को मैं गौर से देखने लगा. उसने दोनों पैर खोल दिए. कुछ देर उसकी भरी हुई चूत का दीदार करके अपनी आँखों को सुकून देता रहा. फिर जीभ लगाकर चूत चाटने लगा. फ्रेंड्स, मैं जिस रंडी को भी चोदता हूँ उसकी चूत जरुर चाटता हूँ. मेरी को बुर चुसाई अच्छी लगती है. इससे लड़की अच्छे से गर्म हो जाती है और जोश से साथ चुदवाती है. सविता के साथ भी मैंने ऐसा ही किया. उसकी चूत की एक एक कली और तह को मैंने ऊँगली से खोल खोलकर चाटा. वो बार बार “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” की सेक्सी आवाजे निकाल रही थी. उसकी चूत का स्वाद काफी नमकीन था. मैं चूत के लिप्स को दांत से पकड़कर उपर की तरह खींच खींचकर चुसाई और चटाई कर रहा था. काफी देर तक उसकी चूत में घुसा रहा.

सविता: तुम कैसे आशिक हो??? अब मुझे कितना सताओगे गोलू?? प्लीस!! अब मेरी लावे जैसे गर्म चूत में लंड डाल दो. अब मेरे को मत सताओ!!
सविता रंडी कहने लगी. अब टाइम बर्बाद करना सही नही था. मैंने जल्दी से अपने 7 इंच लम्बे लौड़े को उसकी चूत में डाल दिया और चुदाई शुरू कर दी. जैसे से अपुन ने धक्के देना शुरू किया सविता “…….उई. .उई..उई…….माँ….ओह्ह्ह्ह माँ……अहह्ह्ह्हह…” करने लगी. उसने मुझे इतनी कस के दोनों हाथो से पकड़ लिया की आप लोगो को क्या बताऊं. उस पर सेक्स का भूत अब पूरी तरह से सवार हो गया था. मैंने जल्दी जल्दी कमर उठा उठाकर चोदना शुरू कर दिया. सविता की चूत में गहराई तक मेरा लंड जा रहा था जिससे चूत में अधिक रगड़ मिल रही थी. वो भी अच्छे से चुदवा रही थी. मैंने और तेज धक्के मारना शुरू कर दिया. अब तो उसके दोनों दूध उपर नीचे हिलने लगे. मैंने कामुकता में आकर दोनों दूध को कब्जे में ले लिया और जोर जोर से दबाने लगा. अब वो और तेज तेज चिल्लाने लगी. मैंने भी उसकी रगड के चुदाई शुरू कर दी. जल्दी जल्दी अपनी कमर को उपर नीचे करने लगा जिससे उसे एक पति जैसा प्यार दे सकूं. सविता रंडी अब मेरे को बार बार किस करने लगी. उसने अपने दोनों पैर उपर को उठा दिए और अपुन को सिने से चिपका लिया.

हम दोनों बिलकुल हसबैंड वाइफ की तरह चुदाई कर रहे थे. सविता के माथे पर बड़ी सी लाल बिंदी, हाथ में खनकती चूड़ियों की खन खन की आवाज और गले में पड़ा नकली मंगल सूत्र को देखकर मेरे को यही लगता था की मेरी शादी उससे हो गयी है और आज मैं उसके साथ सुहागरात मना रहा हूँ. मैंने उसके दोनों दूध को अच्छी तरह से मनमाफिक मसला. अब उसकी निपल्स को ऊँगली से घुमाने लगा. नीचे उसकी चुदाई चालू थी. मैं एक सेकंड को रुका नही. सविता गर्म गर्म साँसे छोड़ने लगी. “……मम्मी…मम्मी…..सी सी सी सी.. हा हा हा …..ऊऊऊ ….ऊँ. .ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ..” वो बोल रही थी. हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम ….. तेज धक्के देते देते आखिर मैं झड़ने को आ गया. उसे कसके सीने से लगा दिया और एक धक्का बिलकुल उसकी चूत की आखिरी दीवाल पर गच्च से मार दिया. फिर मैं शहीद हो गया. चूत में ही मैंने अपने लंड का सफ़ेद और ताजा उबलता पानी छोड़ दिया. फिर सविता भी झड़ गयी. हम दोनों पसीने से लतपत हो गये थे. अब वो मेरे को किसी वाईफ की तरह लिप्स पर किस कर रही थी. आज उसने मेरे को किसी वाइफ जैसा मजा दे दिया था.

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone