साथ पढ़ने वाली तीन कुवारी लड़कियों को एक साथ चोदा


Click to Download this video!
loading...

सीमा, अंजलि और तृप्ति तीनो ही 19 साल की थी उस वक्त और एक ही स्कुल में पढ़ती थी. सीमा सब से लम्बी थी, और उसका फिगर  36-25-38 का था. वो थोड़ी डार्क थी. कंधो तक बाल आते थे उसके और दिखने में और बातचीत में एकदम डायनेमिक पर्सनालिटी थी उसकी. मैं, सीमा, तृप्ति और अंजलि सभी एक ही काम्प्लेक्स में पिछले 5 साल से रह रहे हे. और हमारे एरिया में और ऐसी लडकियाँ हे भी नहीं. मेरी नजरें खराब ही थी उन्के ऊपर. लेकिन चांस मिला नहीं कभी और नॉन-सेक्सुअल दोस्ती वाला रिश्ता ही था हमारे बिच में. वैसे मैंने ऐसा कभी किया नहीं था लेकिन मेरे दोस्तों को लगता था की मैं उन तीनो को चोद रहा था. और मैंने भी इस जूठ को चला के रखा था. और साला स्कुल में जैसे मेरी इमेज लव गुरु की बनी हुई थी.तृप्ति उस से थोड़ी कम हाईट की और उसका फिगर 38-26-36 था. वो मीडियम टोन वाली स्किन की, छोटे बालोंवाली और बड़ी छातियों वाली लड़की थी. अंजलि सब से कम हाईट की थी करीब 5 फिट जितनी ऊँची थी वो.  उसका फिगर 36-24-36 था और उसकी चमड़ी सब से गोरी थी. उसके बाल घुटनों तक लम्बे थे. अंजलि इन तीनो में सब से सेक्सी और हॉट लगती थी. तो एक लाइन में कहूँ तो सीमा की सेक्सी लम्बी टाँगे थी. तृप्ति के बड़े बूब्स थे और अंजलि की सेक्सी लुक्स और गोरी चमड़ी थी. साथ में निकले तब वो तीनो का ग्रुप थोडा ओड ही लगता था.

हम चारों के पेरेंट्स अच्छे फ्रेंड्स थे. और इसी वजह से मैं भी उन तीनो का अच्छा दोस्त बन गया था. हम लोग अक्सर एक दुसरे के फ्लेट पर जाते थे और हर फंक्शन में एक दुसरे का इनविटेशन भी रहता ही था. शरीर में जैसे जैसे होर्नोमल चेंजिस आई वैसे वैसे मेरी निगाहें इन लड़कियों की तरफ धीरे धीरे बदलती गई. मैं उन्के साथ मस्ती मजाक करता था वो पहले निखालस यानी की मासूम मस्ती होती थी. लेकिन फिर मैं जानबूझ के उन्के बदन को टच करने के लिए ही उन्के साथ मस्ती करता था. अक्सर इन लड़कियों के बूब्स और गांड से टच हो जाने पर मुझे हस्तमैथुन का असली मजा मिलता था! हम लोगों की एग्जाम एक ही दिन ख़तम हो रही थी. तो हम चारों ने आफ्टरनून में तृप्ति के घर पर मिल के सेलिब्रेट करने का फैसला किया. तृप्ति के मोम डेड दोनों जॉब करते हे और वो घर पर अकेली ही होती हे इसलिए वहां का चयन हुआ था. वो तीनो एकदम सेक्सी मेकअप कर के आई थी. उन्हें देख के मेरे लंड में इलू इलू सा होने लगा था. हम सब ने एक दुसरे को हग किया. सब के सब खुश और लाईट मूड में थे क्यूंकि एग्जाम का टेंशन सर से हट गया था. हम लोगों ने स्नेक्स और कोक का इंतजाम किया था. सब खाने पिने लगे और तृप्ति ने म्यूजिक भी चालु कर दिया था.

loading...

और फिर तृप्ति ने कहा, आज मैं तुम सब के लिए एक सरप्राइज ले के आई हूँ. हम सब उसकी तरफ देख रहे थे. और उसने एक इम्पोर्टेड शेम्पेन की बोतल निकाली! उसने कहा की अगर एन्जॉय ही करना हे तो ये कोक शोक से नहीं लेकिन असली चीज से ही करते हे! सीमा ने कहा, तेरे पापा को पता चला तो मार डालेंगे पागल. तृप्ति ने कहा, अरे छोड़ न उन्हें पता नहीं चलेगा, ये बोतल एक जमाने से पड़ी हे, मेरा मामा लाये थे ड्यूटी फ्री से. पापा ने अभी हाथ नहीं लगाया उसे. अब पापा को पता चलेगा तब की तब देखेंगे, अभी तो एग्जाम को ख़तम करने का जश्न कर लेते हे.और ऐसा सब कह के तृप्ति ने सीमा को कन्विंस कर ही लिया. इन तीनो ने अपनी लाइफ में कभी पहले शराब नहीं पी थी. शराब उन तीनो के ऊपर जल्दी ही चढ़ गई. फिर हम लोग उस खाली बोतल से ट्रूथ और डेर की गेम खेलने लगे. मुझे अभी याद नहीं हे लेकिन जब बोतल मेरे पास रुकी तो उनमे से एक लड़की ने मुझे अपना लंड दिखाने के लिए कहा! तिन शराबी लड़कियों के सामने लंड निकालने का मन मेरा भी तो था ही! वो तीनो मेरे सामने सोफे के ऊपर अगल बगल बैठी हुई थी. और मैं उन्के सामने बैठा था. हमारे बिच में एक मेज थी. मैं खड़ा हुआ और अपनी जींस को खिंच दी. फिर अपनी अंडरवेर को निचे कर के मैंने उसे घुटनों तक ला दिया. मेरा लंड अब उन तीनो का ध्यान खिंच रहा था. वो तीनो की नजर मेरे कडक लोडे के ऊपर ही थी.

loading...

अंजलि बोली: ये ऐसा क्यूँ हे?

सीमा ने हंस के कहा, शायद इसे ही खड़ा लंड कहते हे!

तृप्ति खड़ी हो के करीब आ गई और ध्यान से मेरे लंड को देखने लगी. मैंने उसके हाथ को ले के लंड पकड़ा दिया उसे. वो हंस के वापस बैठ गई. मैंने अब कहा, मेरा लंड तो देख लिया तुम लोगों ने अब चलो तुम्हारी वजाइना भी दिखाओ मुझे सब के सब.मेरा ऐसा कहते ही सब से पहले सीमा खड़ी हुई., उसने स्कर्ट पहनी थी जिसकी बटन खोल के उसने निचे कर दिया. वो वापस सोफे के ऊपर बैठी और अपनी गांड को उठा के उसने पेंटी निकाली. वाऊ उसकी चूत मेरे सामने थी. उसे देख के तृप्ति और अंजलि ने भी अपने कपडे खोल के अपनी चूत मेरे सामने खोल दी. सब की चूत पिंकिश थी और उन्के अन्दर पानी भी निकला हुआ था.बिना कुछ सोचे मैंने फट से अपने शूज़ निकाले और जींस निकाल फेंक के मैं सीमा के पास चला गया. उसकी टांगो को खोल के मैंने उसकी चूत के ऊपर अपनी जबान को रख दिया. और चूसने के साथ साथ मैंने अपनी ऊँगली से भी उसकी पुसी की छेड़खानी चालु कर दी.तृप्ति और अंजलि भी पीछे नहीं रहना चाहती थी. तृप्ति ने मेरे पास आ के मेरा लंड पकड़ लिया. और अंजलि वही बैठ के अपने बूब्स अपने हाथ से मसलने लगी थी. मैंने अपने दुसरे हाथ से अंजलि के बूब्स पकडे और उन्हें दबाने लगा.लंड के ऊपर लम्बी उँगलियाँ चल रही थी और मुझे बहुत मजा आ रहा था. तृप्ति थोड़ी असहज सी हो रही थी इसलिए मैंने सब कुछ छोड़ के उसकी चूत को जोर जोर से चाटा. सीमा और अंजलि भी मोअन कर के अपने बदन से खेलने लगी थी.अंजलि ने मेरे पास आ के अपनी सेक्सी चूत को नजदीक किया. उसकी स्मेल भी मुझे आने लगी थी. मैंने अब तीनो लड़कियों को पाँव ऊपर कर के सोफे के ऊपर बिठा दिया. और एक एक कर के उन तीनों की चूत को मैं लिक करने लगा था. और वो एक दुसरे के बूब्स को मसल रही थी. मैं उनकी चूत के होंठो को चाट चाट के उन्हें मस्त कर रहा था. इन तीनो की चूतों से पानी बहार आ रहा था और मैं उन्हें चाट के चखने लगा था. ये तीनो लड़कियां अपने बूब्स मसल के मोअन कर रही थी जोर जोर से.

फिर मैंने उन्हें कहा की चलो पीछे आराम से बैठ के सब अपने अपने मुहं को खोलो. वो लोगो ने ऐसे ही किया. और मुहं को खूला छोड़ के वो अपनी चूतों को अपने हाथ से मसल रही थी. मैंने अंजलि के बड़े बूब्स को दबाये और उसकी निपल्स को पिंच कर लिया. वो अह्ह्ह कर बैठी. मैं सोफे के ऊपर पाँव रख के चढ़ गया. और अपने लंड को मैंने उसके मुहं में डाल दिया. मैंने उसे कहा चुसो मेरी जान.सीमा और तृप्ति किसी सेक्सी पोर्नस्टार के जैसे हम दोनों को देख रही, जब मैं मुहं को लंड से पम्प कर रहा था. मैंने कहा, चुसो इसे जोर जोर से मेरी रंडी.अंजलि ने पूरा जोर लगा के मेरे लंड को चूसा. बाप रे कितना मजा आ रहा था मुझे उसे लंड चूसा के. उसका ब्लोवजोब इतना हॉट था की मेरी आँखे बंद हो गई थी और मेरे हाथ उसके बूब्स को जोर जोर से दबा रहे थे. उसने मेरे हेरी बॉल्स को पकड़ के उन्हें दबाये. मुझे देर नहीं लगी अपने वीर्य से उसके मुहं को भरने में. मैंने उसे पिला दिया अपना मुठ. उसने आधा पिया और बाकि के आधे को अपनी सहेलियों के साथ शेयर किया. वो इंग्लिश पोर्न मूवी के जैसे एक दुसरे के मुहं में वीर्य की अदलाबदली कर रही थी.मेरा लंड ढीला पड़ रहा था जिसे मैंने वापस से अंजलि के मुहं में भर दिया ताकि वो उसे चूस के साफ़ कर सके. तृप्ति और सीमा ने एक दुसरे के बूब्स को और उनके होंठो के उपर लगे हुए मेरे वीर्य को चुसना चालू कर दिया. तृप्ति और सीमा की किस देख के लंड फिर से कडक हो गया और अंजली की साँसे घोटने लगा था.

मैंने तृप्ति और सीमा को अलग किया. फिर मैने तृप्ति के मुहं में लंड दे के कहा, चूस इसको. सीमा अपनी उंगलियाँ मेरी छाती के ऊपर सेक्सी ढंग से चला रही थी. मैंने कहा, तेरी बारी भी आएगी मेरी छिनाल जरा रुक तो! वो अपनी हिला के हमारा शो देखने लगी थी.अंजलि ने निचे बैठ के मेरे बॉल्स को लिक करना चालू कर दिया था. मैं तृप्ति के एकदम बड़े बूब्स को मसलने लगा था. वो मेरे हाथ से भी बड़े थे. अंजलि के हाथ अब तृप्ति की जांघो के बिच में होते हुए उसकी चूत के दाने को सहला रही थी. तृप्ति के चूत के दाने को उसने इतनी जोर से हिलाया की उसके बदन में कम्पन हुई और वो झड़ गई.मैं और अंजलि अभी रुके नहीं थे और एक दुसरे को चरम बिंदु के ऊपर ले जा के प्लीजर देने लगे थे. अंजलि ने तृप्ति की चाटी और उसे देख के मेरा पानी निकल गया. अंजलि की प्यासी जबान ने मेरे वीर्य का केच कर लिया. उसे आधा वीर्य चटा के बाकी का आधा मैंने प्यासी सीमा के मुहं में निकाला.मेरा लंड अभी भी कडक था जिसे मैंने अब सीमा की सेक्सी चूत के अन्दर डाल दी. उसकी चूत की झिल्ली की पकड़ से मैं समझ गया की वो एकदम वर्जिन माल थी. लंड अन्दर घुसते ही उसके मुहं से अह्ह्ह्ह निकल गया. और वो रोने लगी. मैंने एक झटका और दे दिया उसके दर्द की परवाह किये बिना. उसकी चूत के मसल मेरे लंड के ऊपर टाईट ग्रिप बना चुके थे.

तृप्ति मेरी गांड को सहला के जैसे झटके देने में मदद कर रही थी. अंजलि मेरे बॉल्स को चाट रही थी जब मैं सीमा की चूत पेल रहा था. मैं तृप्ति के बूब्स को चूसते हुए अपनी कमर को हिला रहा था. मैं जोर जोर के झटके देने लगा था. और फिर मेरे बदन से फिर से वीर्य की पिचकारी निकली. इस बार भी बहुत सब वीर्य निकला था. मैं सोफे के ऊपर धंस गया और इन तीनो ने वापस से मेरे वीर्य को एक दुसरे के मुहं में घुमाया और एक दुसरे के बूब्स चुसे और चूत को ऊँगली से हिलाई.मेरा लंड लुल्ल हो चूका था और लाल भी. सच में एक आदमी को चोदने में इतना सब मजा आता हे वो मुझे खुद को पता नहीं था. मेरा लंड सूजन सा हो चला था.पांच मिनिट तक हम नंगे ही एक दुसरे के बदन को सहलाते रहे. और मेरा लंड फिर से कडक हुआ. मैंने कहा, अंजलि.

अंजलि और बाकी की लडकियां भी जान चुकी थी की अब किसकी चूत में मेरा लंड जाना हे. अंजलि धीरे से मेरे पास आई और उसने लंड को पकड़ा और अपनी चूत के ऊपर सेट कर दिया. मैंने धक्का दिया और मेरा लंड उसकी सेक्सी मखमल सी चूत में जा घुसा. उसकी चूत के मसल मेरे लंड को जैसे धीरे से गिरफ्तार कर रहे थे. मैंने उसकी गांड पकड ली और उसको निचे की और धक्का दे के लंड को पूरा अन्दर तक घुसा दिया.सीमा और तृप्ति दोनों ने अपने बूब्स मेरे फेस पर डाले और वो एक दुसरे को किस करने लगी. मैं एक एक कर के उन चारो बूब्स को चूसने लगा था. अंजलि की झिल्ली ने कोई अवरोध सा नहीं किया और मेरे लंड की गर्मी से जैसे वो पिगल ही गया था. मेरा लोडा अब आराम से उसकी चूत में अन्दर बहार होने लगा था. उसने मस्त ग्रिप बनाई हुई थी और हिल हिल के वो मेरे लंड को ले रही थी. मैंने अब अंजलि के बूब्स पकडे और उसे एकदम जोर जोर से चोदने लगा. वो और मैं कुछ ही पल में एक साथ झड़ गये और झड़ते हुए उसके मुहं से जोर जोर की मोअनिंग हुई.

फिर से वो तीनो लड़कियों ने मेरे वीर्य को शेयर किया. अब की अंजलि की चूत को सीमा और तृप्ति ने चाटा. उन्होंने चूत के रस को भी शेयर किया.और फिर आखरी वाली लड़की की बारी आई. मेरा लंड इस बार 10 मिनिट खा गया खड़ा होने में. लेकिन जब खड़ा हुआ तो मैंने तृप्ति को घोड़ी बना दिया. पीछे से उसकी बिग एस देखते ही मैंने उसकी चूत को चोदा. वो भी जोर जोर से अपनी गांड को हिला के मेरे लंड को ले रही थी.वीर्य निकलने पर फिर से वो तीनो खास सहेलियों ने उसको शेयर कर लिया.मैं निढाल हो चूका था और मेरा लंड दुखने सा लगा था. हम चारों नंगे ही सोफे के ऊपर पड़े हुए थे. मेरे लंड के ऊपर और इन तीनो लड़कियों की चूतों के ऊपर रस सुख चूका था!

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone


chachi ki chikni chootboobs dabayenew latest sex stories in hindikhala chudaichor se chudaisasur bahu ki chudai hindi storyindian sex stories latestporn stories in hindi languagerandi ki chudai ki khaniyahindi kamuk storycrossdressing stories in hindibua ki gaandjija sali ki sex kahanisex story incest hindipriyanka ki chudai kahanibaju wali bhabhi ko chodabhanji ko chodaarti ki chootdost ne maa ko chodagangbang ki kahaniantarvasna sistersasur chodholi me chachi ki chudaisex story of auntybest hindi sex storiesshadi me bhabhi ko chodasexstoryin hindinew latest sex stories in hindichut ki khujlinew hindi sex storybhai bahan sex story in hindimai chud gaihindi chudai kahani hindi fonthindi gay porn storiessister ki chudai in hindisasur se chudai kahanikamwali ko chodawww antarbasna compregnant mami ko chodabiwi ki chudai dekhimaa beti ki ek sath chudaimausi ki chudai ki hindi kahanidesi gay kahanichachi ko bus me chodadidi ki gaanddada ne poti ko chodachachi sex story hindishabana ki chudaiauntysexstorybhai behan chudai story in hindimoshi ki ladki ki chudaihindi incent storybiwi ko dost se chudwayachachi ko bathroom me chodabahu ne sasur se chudwayamausi ko choda storyjija ne chodahindi incest sex storiesgand chatilatest sex stories in hindibua ki chutsuhagraat chudai kahaniindiansexstorieachudai story latestmosi ki chudai storybeti ki chudai ki kahani hindi mexxx hindi storysex stories indian hindipadosan ki chudai ki kahanitution teacher ki chudai storysex stores comhindi sex story momtai ji ki chutholi par bhabhi ki chudaiantavasana comsexy storry in hindibudhe se chudairead indian sex stories in hindiantarvasna c9msexy storrytrain me chudai hindi sex storybehan ki malishpadosan teacher ki chudaisexy chut ki kahanimoshi ki ladki ki chudaisasur se chudihindi story bahan ki chudai