साथ काम करने वाली लड़की की चूत में उंगली डाला


loading...

मेरा नाम अजय है। कानपुर में घर है मेरा। मेरी शादी को 10 साल हो गये है। दोस्तों जब भी किसी लड़के की शादी नई नई होती है शुरू शुरू में सब गर्म रहता है। रोज रात में चुदाई हो जाती है। हसबैंड वाइफ दोनों ही खूब सेक्स में मजे लुटते है। पर जैसे जैसे शादी पुरानी होने लग जाती है वो स्पार्क खत्म हो जाता है। अब मेरे 3 बच्चे हो चुके है और मेरा सेक्स जीवन पूरी तरह से रुक गया था। मेरी बीबी अब सेक्स करती ही नही थी। उसे इसमें कोई मजा नही आता था। मैं परेशान रहता था। पर जबसे बच्चे हो गये थे मेरी बीबी सेक्स करती ही नही थी। रात में मैं जब भी उसके पास जाता था वो बिस्तर पर दुसरी तरह मुंह करके सो जाती थी। मैं प्यासा रह जाता था और चूत मारने को तड़पता रह जाता था। ये सारी बाती मैंने अपनी साथ काम करने वाली निभा को बतायी। वो मेरे साथ ही दफ्तर में सरकारी बाबू थी।
“तब तो अजय तुम कही बाहर हो अपनी सेटिंग कर लो” निभा बोली और हंसने लगी
“कहाँ सेटिंग कर लूँ। पूरे 3 महीने से चूत के दर्शन नही हुए है मुझे” मैंने कहा
धीरे धीरे मेरी सेटिंग निभा से ही हो गयी। जब आदमी को खाना नही मिलेगा तो बाहर तो खायेगा ही। जब हमारे ऑफिस में कोई नही होता तो मैं उससे साथ रोमांस शुरू कर देता। मैं उसकी चूत में ऊँगली करने लग जाता। निभा भी मेरी तरह कानपुर की रहने वाली थी। *** नगर में घर था उसका। मीडियम फैमिली से थी। वो अभी कुवारी माल थी। धीरे धीरे मैं उसे लाइन देने लगा और उसे हर महीना नया कपड़ा खरीदकर दे देता। वो भी ख़ुशी ख़ुशी ले लेती। जब हम लोगो के ऑफिस की शाम को छुट्टी हो जाती मैं उसे बाहर घुमाने ले जाता और रेस्टोरेंट में खाना खिलाता। अब वो मुझसे पट गयी थी। अगले दिन कोई छुट्टी थी पर हमारे संचार विभाग में नही थी। इसलिए आज कम लोग की आये थे। बाबू वाले कमरे में सिर्फ निभा और मैं भी आये थे। मैंने उसकी कुर्सी अपने पास खींच ली और चूत को सलवार के उपर से सहलाने लगा।

“अजय!! प्लीस छोड़ो ना। कोई देख लेगा” वो बोली
“कोई नही देखेगा। आज सरकारी छुट्टी है जान। कोई नही आया है ऑफिस आज। सिर्फ मैं और तुम ही आये है” मैंने कहा और जल्दी जल्दी उसकी चूत को उपर से सहलाने लगा।
वो मेरे बगल कुर्सी पर बैठी थी। हम किस करने लगे। निभा बिलकुल देसी लड़की थी। ठीक ठाक थी। ना बहुत गोरी था ना बहुत काली। बस ये जान लीजिये की चोदने लायक सामान थी। मैंने उसे पकड़ लिया और होठो पर किस करने लगा। वो सरेंडर हो गयी। मैंने ऑफिस के कंप्यूटर पर ही ब्लू फिल्म लगा दी क्यूंकि आज कोई हमे देखने वाला नही था। देख देख पर मेरी साथी निभा और गरमा गयी।
“अजय!! क्या आज मुझे चोदोगे???” वो मेरी आख में आंख डालकर बोली
“जान इरादा तो कुछ ऐसा ही है” मैंने कहा और उसके कुर्ते के उपर से से गले की तरफ से अपना हाथ डाल दिया और उसके आमो को दबाने लगा। निभा “…..ही ही ही……अ अ अ अ .अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह….. उ उ उ…”
करने लगी। उसे भी अच्छा लग रहा था। मजा लेने लगी। मैं सहला सहला कर दबा रहा था। फिर मैंने अपना हाथ निकाल लिया और उसके कुर्ते के उपर से उसके दूध दबाने लगा। दोस्तों आपको बता दूँ की निभा बहुत सुंदर तो नही थी। पर जिस्म खूब भरा पूरा था उसका। जहाँ जहां पर उसके बदन में गोश होना चाहिए था खूब था। उसके मम्मे 36” के गोल गोल तने हुए थे। उसके पुट्ठे भी खूब मांसल थे। फिर मैंने उसे हाथ पकड़कर उसे उसकी कुर्सी से उठा दिया और अपनी गोद में बिठा लिया। मैं अब ऑफिस की कुर्सी पर बैठा हुआ था। निभा मेरी गोद में बैठ गयी। मेरे पेंट में मेरा लंड खड़ा हो गया। वो उसके उपर बैठी थी। उसे लंड चुभ रहा था। उसने कुछ नही कहा।  हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 
मैंने उसे प्यार करने लगा। उसके दुप्पटे को मैंने हटाकर किनारे रख दिया। उसके कुर्ते के उपर से उसके 2 गेंद जैसे दूध के दर्शन हो गये। नियत खराब हो गयी मेरी। निभा को मैंने अपनी तरह कर लिया और उसके गले, कान, सब जगह चुम्मा देने लगा। वो गुदगुदी हो रही थी। अच्छा लग रहा था। उसके दूध को मैं फिर से सहलाने लगा। निभा मेरी तरह झुक गयी और होठ पर होठ रखकर किस करने लगी। दोनों गरमा गर्म चुम्बन करने लगे। मुझे बहुत मजा आया था दोस्तों।

loading...

जब मेरी बीबी नई नई आई थी खूब किस करती थी पर अब तो सब खत्म ही हो गया थाअ। मैंने निभा की पीठ पर अपना हाथ रखकर उपर नीचे सहला रहा था। दोनों किस कर रहे थे। वो गर्म हो रही थी। उसकी दूध भरी बेहद नशीली छातियों को देखकर कोई भी पागल हो जाता। मैं भी हो हो गाया था।
कुछ देर किस होने के बाद अब आगे बढ़ना था। मैंने उसके सूट में फिर से उपर से ही हाथ अंदर डाल दिया और जुदाड करके बायीं चूची को बाहर निकाल लिया। उसकी ब्रा को हटाकर मैंने चूसना शुरू कर दिया। निभा ने कुछ नही कहा। मजे से मुझे पिला रही थी। “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” की तेज आवाजे निकाल रही थी। मैं उसके मस्त मस्त आम को पी रहा था। मुंह चला चलाकर पी रहा था। मजा लुट रहा था। दोस्तों मुझे नही मालुम था की सांवली सलोनी लौडियों की चूचियां भी इतनी मस्त होती है। निभा की चूचियां बड़ी बड़ी तनी हुई थी और निपल्स के चारो ओर काले काले गोले चन्द्रमा की तरह गोल गोल थे। देखा तो मैं मर मिटा।  हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 
“ओह्ह जान!!! यू आर सो सेक्सी!!” मैंने कहा और चुसना शुरू कर दिया। मैं रुका ही नही। बस चूसता चला गया। मेरी साथी निभा तड़प रही थी। “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…”की सेक्सी आवाजे निकाल रही थी। कितना आनंद आया मुझे उस दिन। मैंने 10 मिनट तक उसकी बायीं चूची पी। फिर दाई चूची भी बिना सलवार को उतारे गले की साइड से बाहर निकाल ली और चूसने लगा। निभा भी तृप्त हो गयी। दबा दबाकर मैं मजे ले रहा था। वो बी दबवा रही थी। मैं चूस चूसकर उसके दोनों बूब्स को लाल कर दिया। अब निभा पूरी तरह से गर्म हो गयी थी। उसकी नजर मेरे पेंट पर पड़ी। मेरा उफान मार रहा था। उससे रस निकल रहा था। पेंट भी गीली हो गयी थी। निभा चुदासी हो गयी। उसने मेरी चेन नीचे खींची और मेरे अंडरवियर के अंदर से मेरा लंड बाहर निकाल लिया। मेरा लंड किसी सांप की तरह डरावना दिख रहा थाअ। पूरा 10” का लंड था मेरा।
अब मेरी साथ काम करने वाली निभा घुटनों के बल नीचे बैठ गयी। मेरी पेंट और अंडरवियर को उसने नीचे खिसका दिया। मैंने भी अपने पैर खोल दिए।
“ओह्ह अजय!! तुम्हारा लंड कितना मोटा है। तब तो ये मुझे बहुत मजा देगा” निभा बोली
“सच कहा जान। आज मैं भी तुमको मजा देना चाहता हूँ” मैंने कहा

loading...

उसके बाद निभा दिवानी हो गयी और मेरे 10” लंड को जल्दी जल्दी फेटने लगी। मैं उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… करने लगा। आज मेरी किस्मत चमक गयी थी। कभी सोचा नही था की निभा इस तरह खुलकर सेक्स करेगी। वो जल्दी जल्दी फेटने लगी और अपने गाल पर लंड से थपकी देने लगी। दोस्तों मेरा लंड बहुत गोरा और मोटा तंदुरुस्त दिख रहा था जैसे अक्सर ब्लू फिल्मो में दिखाते है। निभा अपने चेहरे को मेरा लंड पकड़कर पीट रही थी। अच्छा लग रहा था। मेरा लंड किसी मोटे नोकदार रोकेट की तरह दिख रहा था। निभा ने मुंह में भर लिया और जल्दी जल्दी चूसने लगी। मैंने उसके सिर पर हाथ रख दिया और अंदर लंड की दीशा में दबा दिया।
लंड उसके गले तक चला गया। मैंने उसे बाहर ही नही आने लगा। 2 मिनट बाद ही बाहर आने लगा। मेरी कुलीग निभा को खांसी आने लगी। उसके होठो में मेरा माल लग गया था। वो लम्बी लम्बी साँस खींच रही थी। फिर से उसके चूसना शुरू कर दिया। किसी लोलीपोप की तरह जल्दी जल्दी हाथ चलाकर फेट रही थी और चूस रही थी। मैं तो आज अपने ऑफिस में ही जन्नत के मजे लूट रहा था। आज छुट्टी के दिन आकर मैंने सबसे फायदे का काम किया था। निभा तो बिना रुके चूस रही थी। गले तक लेकर किसी प्रोफेशनल रंडी की तरह चूस रही थी। काफी देर तक लंड चुसव्व्ल किया उसके।
“जान खड़ी हो जाओ” मैंने कहा
निभा खड़ी हो गयी। उसके पेट पर मैंने किस किया। अपने हाथो से उसकी सलवार की डोरी मैंने खींची। सलवार उतर गयी। देखा तो उसकी पेंटी पानी पानी हो गयी थी। मैं आपकी कुर्सी से खड़ा हो गया। निभा ने अपने पैर सलवार से बाहर निकाल दिए और उसे मेज पर रख दिया।
“चलो बैठो जान!! और पैर खोलो” मैंने अपनी कुलीग से कहा
निभा कुर्सी पर बैठ गयी। पैर खोल दिए। उसने गुलाबी रंग की सुंदर सी नई डिजाइन वाली पेंटी थी। मैं नाक लगाकर उसकी चाश्नी वाली बुर की खुशबू लेने लगा। ओह्ह्ह कितनी मीठी खुसबू थी उसकी। फिर मैं पेंटी के उपर से उसकी चूत चाटने लगा। वो “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….”करने लगी। मैंने उसकी पेंटी उतार दी और सब माल चाट गया। आज पहली बार मैंने किसी पराई औरत के साथ मजा लूटा। मैं जीभ लगा लगाकर चाट रहा था। कितना आनंद आ रहा था मैं आपको बता नही सकता हूँ। फिर मैंने अपना 10” लंड उसकी चूत के दरवाजे पर रखा और जोर का धक्का मारा। एक ही बार में निभा की सील टूट गयी। मेरा लंड 5” अंदर घुस गया। वो दर्द से तदपने लगी। मैं एक धक्का और मारा और इस बार कमाल हो गया। पूरा 10” लंड उसकी भोसड़ी में घुस गया। मैं निभा को जल्दी जल्दी कुर्सी पर बिठाकर चोदने लगा।  हिंदी पोर्न स्टोरीज डॉट कॉम 

मैं उसे झुककर चोद रहा था। वो किसी रांड की तरह दोनों टाँगे फैलाये हुए थे। मैं कमर उठा उठाकर उसकी चूत का चौराहा बना रहा था। वो “…….उई. .उई..उई…….माँ….ओह्ह्ह्ह माँ……अहह्ह्ह्हह…” की तेज आवाजे निकाल रही थी। खूब मनोरंजन हुआ दोस्तों। अंत में मैं झड़ गया। अब मैं कभी अपनी किस्मत का रोना नही रोता हूँ। अगर बीबी चूत नही देती है तो मैं अपनी कुलीग निभा को ही अब चोद लेता हूँ।

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone


chudai ke chutkule hindifree hindi sexi storyhindi chudai ke chutkulevillage sex story in hindimarwari chudai kahanisale ki biwibua mausi ki chudaiafrin ki chudaisex stories with imagessex story hindi picchor se chudaidesi gand chudai storychudakad biwitabele me chudaividhwa mami ki chudaiinduansexstorieshindi mom sex storybhabhi ko jabardasti choda storyaunty ki gand mari storyjija sali ki chudai hindi storyneha ki chudai hindikhel me chudaihindi writing chudai kahanibhatije se chudaisister ki chudai ki kahaniteacher ki chudai hindi sex storiesteacher ki chudai in hindi storyxxx hindi kahanisardi me chudaibadi didi ki chootdevar se chudwayacamukta comkhet me gand maribahu ne sasur se chudwayamausi ki chudai ki kahanigand ka chedaantervasna comgujrati sexy vartanani ki chudai ki kahanimausi ki ladki ki chudaioffice ki ladki ko chodakhala ki chudaimajdur ki chudaipadosan teacher ki chudaibhai ne choda raat koshobha aunty ki chudaifamily sexy story hindisexy joxeschudai hindi font kahaniantarvasna padosan ki chudairajai me chudaitrain me chudai story hindisali ki gandrasili chootbua ki chudai hindisasur bahu sex story in hindimaa ki chudai in hindi storysali ki chudai story in hindisoni ki chudai ki kahanihindi fonts sex kahaniindian sex stories inek ladke ki gand marijeth ji se chudairandi ki chudai kahani hindichut ka bhootbudiya ko chodahindipornstoriesdesi hindi sex storyindiansexstorieatution didi ko chodamama ke ladki ki chudaijija sali sex story in hindisasu ki chudai ki kahanidadi maa ki chutmastaram nettaai ki chudaihindi porn khaniyabhanji ki chootsaas ki chudai hindi kahanisuhagraat chudai kahanijija sali ki chudai story in hindimene apni teacher ko chodasunita ko chodabhai behan ki chudai kahani hindisex story incest hindimajdoor ki chudaichor se chudaichudai ki kahani ladki ki jubanibahu sasur sex storyholi par chodawww antarvasna hindi storymaa ko nahate hue chodamom ko car me chodasex story hindi with imagesbete ne maa ko choda hindi storypadosi ki chudai storyjija sali ki chudai kahanixxx hindi storysex kahani with photoindian bhai behan sex stories