रिक्शे वाले को घर बुलाकर रंडी की तरह चुदी


loading...

मेरा नाम जरीना ख़ान हे और मैं एक डिवोर्सड लेडी हूँ. मेरे पति के अंदर मर्दानगी नहीं थी इसलिए मैंने ही तलाक ले लिया था उस से. मैं वैसे अभी फिजिक्स की टीचर हु एक स्कुल में. और मैं देखने में एकदम सेक्सी हूँ इसलिए मर्दों की राडार में रहती हूँ. मेरे स्कुल के चपरासी और स्टूडेंट सब मुझे लाइन मारते हे. पहले पहले मुझे अच्छा नहीं लगता था लोगों की आँखों में रहना. लेकिन पिछले दो साल से मुझे अन्दर से अच्छा फिल होता हे ये सब देख के. कोई मुझे देखे तो उस दिन चूत में ऊँगली करने की मजा कुछ और ही आती हे.धीरे धीरे मैं अकेलेपन को मारने के लिए पोर्न और सेक्स की दुनिया की स्लेव हो गई. रात को डेली सोने से पहले पोर्न क्लिप्स देखने से मुझे अंदरूनी मजा आता था. मैंने आदत बना ली थी जैसे की सोने से पहले चुदाई देखनी हे. और इन सब से मेरे अन्दर की अन्तर्वासना और बढ़ी, मैं ऊँगली से चूत को खिलाती थी और नंगे सो के वासना को और सुलगाती थी.

मेरे अन्दर एक ऐसी फिलिंग ने जन्म लिया था की मैं ताकतवर मर्दों के लंड को ले लेना चाहती थी किसी भी कीमत पर. मुझे मोटे सिनेवाले मर्दों से ख़ास लगाव सा होता चला था. ऐसे लगता था की वो मुझे पकड के ऐसे चोदे की मेरे अन्दर की औरत को वो अपनी चुदाई की गुलाम बना दे. लेकिन पोर्न की दुनिया और असली दुनिया में यही तो फर्क हे. औरत को चोद के उसकी बॉडी को थकान से चूर कर दे ऐसे मर्द कम ही हे दुनिया के अन्दर! मैं सीटी की हद से बहार ही रहती थी. पति ने मुआवजे में एक जमीन का टुकड़ा भी दिया था जिसके ऊपर मैंने 1bhk बनवा लिया था. आगे एक छोटा सा रोड था. और अगल बगल में कुल मिला के चार और मकान थे. चारों ने मिल के एक वाचमेन को रखा था क्यूंकि वो जरुरी था इस एरिया में. महीने में एक बार मैं सफाई अभियान चलाती थी अपने ही घर में. घर के अन्दर और बहार दोनों की सफाई उस दिन आराम से होती थी. एक दिन ऐसे ही मैंने बहार की सफाई के लिए झाड़ू उठाई थी.

loading...

सफाई करने के बाद थक गई. और मुझे लगा की आज तो मेरे से खाना बनेगा नहीं. डिलीवरी नहीं करते थे रेस्टोरेंट वाले हमारे एरिया में. इसलिए मैं नहाने के बाद रिक्शा पकड के खाना लेने के लिए गई. एक हेल्थी रिक्शावाले को देखा मैंने जो बैठ के बीडी फूंक रहा था. उसके चहरे के ऊपर शेविंग करने का वक्त हुआ था उसकी निशानी जैसी हलकी सी बियर्ड थी. वो अपनी खाकी वर्दी में थोडा गन्दा सा लगता था.मैंने देखा की वो शक्ल से ही एकदम मजबूत लगता था. मेरे बदन में उसको देख के ही गुदगुदी सी होने लगी थी. वो मुझे देख रहा था और मैं उस से नजरे नहीं मिला पाई. मैंने स्माइल दी. फिर मैंने उसके पास जा के कहा, शिला होटल चलोगे? पार्सल ले के वापस आना हे.

loading...

वो बोला: किसी और को देख लो, मैं नहीं जाऊँगा.

मैंने उसको देखा और अपनी साडी को थोडा निचे किया. अपने बूब्स का क्लीवेज उसे दिखा के मैंने कहा, टिप अच्छी मिलेगी. घर की सफाई कर रही हूँ, 1000 रूपये दे दूंगी अगर सफाई में हाथ बटायाँ खाने के बाद.

वो मुझे ऊपर से निचे डेक के बोला, ठीक हे चलो.

मैंने रिक्शा में चढ़ते हुए भी अपने पल्लू को ऐसे गिराया की उसके मेरे ब्लाउस में उभरे हुए बूब्स देखने को मिले. वो मुझे किसी जानवर के जैसे ही देख रहा था, मैंने उसे देख के कहा ऐसे क्या देख रहा हे, खायेगा क्या?

मैं ये बोल के हंस पड़ी और वो कुछ नहीं बोला और रिक्शा चलाने लगा.

मैंने कहा, बड़ी स्लो चला रहे हो थोडा फास्ट करो ना!

वो बोला, गांड फाड़ दूँगा अगर तेज चलाई तो.

मैं चूप रही. उसने फास्ट की और वो बार बार शीशे में मुझे देख रहा था. मैंने कहा, कोई औरत को देखा नहीं क्या कभी?

वो बोला, बहुत देखी हे और बहुतो को थका के भगाया हे अपने घर से.

मेरे ऊपर वासना का खुमार चढ़ने लगा था.  खाने के पार्सल में मैंने दो आदमी खा सके उतना सामान लिया. फिर हम लोग वापस मेरे घर पर आ गए. मैंने लोक खोला और उसे कहा, आओ अंदर.

वो मेरी गांड को ही देख रहा था बार बार.

मैंने कहा क्या हुआ?

वी बोला, तू अकेली रहती हे यहाँ पर?

मैंने कहा, हां?

वो बोला, तेरी शादी नहीं हुई.

मैंने कहा, मेरी तलाक हुई हे.

वो बोला: क्यूँ?

मैंने कहा मेरा पति मर्द नहीं था.

वो हंस पड़ा और बोला, तभी.

मैंने कहा, क्या तभी?

वो बोला कुछ भी नहीं.

फिर हमने खाना खाया. खाते हुए वो मेरे बूब्स के ऊपर नजरें गडाए हुए था.

मैंने कहा, क्या देख रहे हो.

वो बोला, बॉल्स बड़े हे आप के.

मैंने कहा, बकवास बंद कर साले.

उसने खड़े हो के मेरे बाल पकड़ लिए और बोला, साली रंडी एक घंटे से खून गरम कर रही हे और अब साली सती सावित्री होने का नाटक. साली बॉल्स अच्छे हे तो अच्छे हे. और तेरे पति के अंदर सच में नामर्दी ही होगी जो तेरे जैसे सेक्सी माल को छोड़ दिया उसने. मैं होता तो दिन में तिन बार तेरी चूत मारता.मैं कुछ नहीं बोली लेकिन उसका ऐसा बोलना मुझे अच्छा लग रहा था. वो रुका तो मैंने कहा, सब मर्द एक जैसे ही होते हे. तिन बार तो कोई नहीं चोद सकता.

वो रिक्शा ड्राईवर बोला, साली आज तुझे असली मर्द के लंड से चोद के दिखाता हूँ.और फिर उसने मेरे बदन के कपडे फाड़ दिये. मैंने भी नाटक कर के अपने बदन को छिपा रही थी जैसे. उसने फिर मेरे बूब्स को पकडे और बोला, वाह सच में कमाल के हे तेरे बूब्स तो.

मैंने कहा, अब काम भी कर ले देखते ही मरेगा क्या.

ये सुनते ही उसे गुस्सा आया और उसने मुझे एक कस के चांटा मारा और बोला, साली छिनाल, चल मेरा लोडा चाट.

और जब उसने अपनी पेंट को खोल के अपने लंड को बहार निकाला तो मेरी आँखे खुली की खुली रह गई. एकदम जंगली सांड का होता हे वैसा लंड था उसका. आगे से थोडा टेढ़ा और एकदम मोटा, रंग में शुध्द्ध काला. मैंने अपने मुहं को खोला और उसने मेरे बाल पकड लिए. वो मेरे मुहं को जोर जोर से चोदते हुए मेरे बालों को खिंच रहा था. मुझे दर्द तो हो रहा था लेकिन पोर्न फिल्मो में जैसे लडकियां चुस्ती हे मैं उसके लंड को वैसे एकदम सेक्स अंदाज से चूसने लगी.पांच मिनिट तक उसके लंड को चूसा और फिर उसने मुझे उठा के बेड में पटक दिया. फिर वो मेरे ऊपर आ गया और मेरे बूब्स को जोर जोर से चूसते हुए उन्हें दबाने भी लगा. उसके मुहं से बीडी की तीखी स्मेल आ रही थी. लेकिन असली देसी स्टाइल का सेक्स मुझे खूब भा रहा था अभी. उसने मेरी चूत के ऊपर अपने लंड को लगा के बिना की ताकीद के ऐसा झटका दिया की मेरी चूत में दर्द की आंधी आ गई. पति से मैंने चुदवाये हुए कुछ महीनो से भी ऊपर हो गया था. और आज मेरी चूत की गलियों में फिर से लंड की बस्ती हुई थी. उसने मुझे गले के ऊपर चूमा और अपने लंड को पूरा अन्दर कर दिया. मेरी हालत दर्द और डर से खराब थी. लेकिन इतने बड़े लंड से चुदने की वासना के आगे वो कम ही लग रहा था.

कुछ देर में इस रिक्शेवाले का लंड मेरी चूत को तार तार करते हुए चोद रहा था. मैं आह्ह अह्ह्ह कर रही थी और वो मेरे बालों को नोंचता था, तो कभी मुझे इधर उधर चूमता था. उसने मेरे बूब्स और गले के हिस्से को इतने लव बाईटस दे दिए थे की सब लाल लाल हो गया था. और पेनिस को वो पूरा कस कस के अन्दर तक मार के मुझे ठोक रहा था.दोस्तों कहानी अभी पूरी नहीं हुई हे. वो रिक्शावाला सच में एक असली मर्द था. उसने मेरी गांड भी मारी.

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone


mousi ki chut maribehan ki gaandsasur se chudai hindi storymeri suhagrat ki chudaimaa ki gaandsasur bahu ki chudai storydadi ki chudai hindi storyrajni ki chudaisex story for reading in hindisex story in hindi latestindian family chudai kahanivarsha ki chudaisex story hindi allboss ki wife ki chudaishadi me bhabhi ko chodatrain me chudai hindi storyindian sex stories comlatest chudai story hindisex story in train hindimaa ka gangbangsister brother sex story in hindihindisexystoriesindian aunty sex story in hindibhabhi ko hotel mai chodajeth ne bahu ko chodaaunty sex story in hindibap beti ki chodai ki kahaniantarvaana combehan ko pregnant kiyamaa ko blackmail kiyasexy story with imagerandio ki chudai ki kahanidost ki wife ki chudaichudasibhabhi comnew sex storyhindi sex story photobhai bahan chudai ki kahaniantervashana comchut ki khujalibhabhi ko holi par chodarajni ki chudaidevrani ki chudaibhabhi ki gaand fadimausi chudai ki kahanibaap beti ki chudai kahani hindichudai hindi font storybhai bahan sex story hindilaunde ki gand mariindiansexstorieasex story in hindi mamibhai behan story hindinokar ne gand marisex story hindi comchudakad maamummy ko uncle ne chodaantavasna comsister ki chudai ki kahanianyarvasna comsasur chodbhabhi ki chuchi storybiwi ki adla badlisex story in hindi with imagesasur bahu ki sexy kahanisali ki chudai in hindi fontmaa ka gangbangmami ki chut phadichudai ki tadaphindisexistorysasur ne bahu ko choda kahanineha ko chodadost ki girlfriend ko chodachoot ka bhootsex story hindi language mebahoo ki chudaiboss ki beti ko chodaantarvasna baap beti ki chudai