मामा ने मामी के कहने पर मिटाई चूत की खुजली


Click to Download this video!
loading...

हाय फ्रेंड्स मेरा नाम जया नीलांशी है। मेरे को प्यार से सब जया कहते हैं। मेरी उम्र 23 साल की हैं । मेरा बदन दूध की तरह गोरा है। मेरी चिकनी चूत का भरपूर फायदा उठाया मेरे मामा जी ने। वो भी बहोत ही हैंडसम लगते थे। मेरी उम्र चुदने की हो चुकी थी लेकिन मामा ने बहोत कडा शासन लगाया था। मामी मेंरे को कभी घर से बाहर ही नही निकलने देती थी। मेरी जवानी को उस कमरे ही में कैद कर रखी थी। मैं घर ने बैठे बैठे ही ब्लू फिल्म देख देख कर काम चला रही थी। दोस्तों मै बचपन से ही आने मामा के घर ही रहती थी। मेरी मम्मी के न रहने के बाद मेरे मामा मेरे को अपने साथ अपने घर ले आये थे। इत्तेफाक से मामा को अभी तक लड़का लड़की नहीं हुआ था। मै ही उनके घर में इकलौती लड़की थी। जो अपने मन की घर में कुछ भी करती थीं। ये बात दो साल पहले की है।

ठंडियो के दिन थे। मामा मामी के साथ बैठकर रजाई में मै मूगफली खा रही थी। हम लोग एक साथ ही सोते थे। मैंने उस दिन खूब सारी ब्लू फिल्म देखी थी। उन सारे चुदाई की सीन को याद कर करके मेरी चूत में खुजली होने लगी। मै ऊँगली डालकर अपनी चूत की खुजली मिटाना चाहती थी। लेकिन ये तो और उलटा लार दिया। मेरी चूत की खुजली और भी बढ़ गयी। रात के लगभग 12 बज रहे थे। मैंने मामी को हिलाकर किसी तरह से जगाया। मेरे को लगा मामा सो रहे होंगे। मामी के साथ उनकी भी नींद खुल चुकी थी। मामी ने मेरे से पूछा! तो मैंने सबकुछ उनके कान में धीरे से बता दिया।

loading...

मामा भी उठ गए थे। वो मामी से पूछने लगे।
मामा- क्या बात है जी इतनी रात को बिटिया क्यों उठ गयी।
मामी- कैसे बताऊँ तुम्हे??
मामा- अरे बताओ नहीं तो, जाओ तुम ही निपटा लेना अपनी प्रॉब्लम!!
मामी- जी अब क्या बताएं? बिटिया की *** में खुजली हो रही है।
मामा- तो वो तुम लोगो का मामला है। तुम लोग ही सॉल्व करो।

loading...

इतना कहकर मामा जी लेट गए। मै अपनी अंगुलियों से चूत को खुजला रहीं थीं। तभी मामी लाइट ऑन करके मेरे पास आई। वो मेरे खुजली वाले गुप्तांग को देखने के लिए मेरी सलवार का नाडा खोलने लगी। मै चौक कर मामी को देखने लगी। मेरी चूत के बाल बहोत बड़े बड़े थे। मामी की लगा शायद इसीलिए खुजली हो रही हो। मामी मेरे को बॉथ रूम में ले जाकर बालो को साफ़..  मेरे को यकीन नहीं हो रहा था मेरी चूत इतनी चमकदार होगी। मामी भी हताश हो गयी। उनको जैसे मेरी खूबसूरत चमकदार चूत को देखकर बहोत बड़ा शॉक लग गया। वो मेरे को फिर से वापस ले आई।

मामी- अब कैसे है खुजली??
मै: मामी बढ़ती ही जा रही है। इतना कहकर मै रोने लगी।
मामी: किस जगह खुजली हो रही है?
मै: चूत के अंदर हो रही है।
मामी(मामा को जगाने के लिए): ए जी सुनते हो! बिटिया की खुजली बढ़ती ही जा रही है।
मामा: रात को मैं किस डॉ को फ़ोन करूं?? बहोत देर हो चुकी है।
मामी: एक आईडिया मेरे दिमाग में आ रहा है! इतना कहकर मामा के कान से होंठ चिपका कर बोलने लगी।
मामा: पागल हो गयी हो क्या??

मामी: ठीक है तो रात भर तड़पने दो!
मामा में आखिरकार मामी की बात मान ही ली। उन्होंने हाँ बोल दी। मामी ने मेरे पास आकर मेरे को कुछ बताने के लिए अलग रूम में ले गयी।
मामी: देखो बेटा इस उम्र में ऐसा हो जाता है। तुम्हारी खुजली मिटाने का एक ही रास्ता बचा है। तुम्हारे मामा जी अपने लंड से खुजला कर अंदर की खुजली मिटायेंगे। तुम उनके सामने नंगी होकर चलो बाकी मै संभाल लूंगी।

इतना कहकर मामी मेरे को मामा के पास ले कर आ गयी। मामा भी बड़े खुश नजर आ रहे थे। मामा ने मामी से दवा लाने को कहा। मेरे को मामी ने दर्द की दवा दे दी। उस टाइम मेरे कुछ समझ में ही नही आ रहा था। मेरे को मामा के सामने खड़ी होने में भी शर्म आ रही थी। मामी ने से कहने लगी “ये बात किसी से बताना नहीं”। मैंने भी सर हिलाकर हाँ में जबाब दिया। मामी मेरे को सारे स्टेप सिखाने लगी। वो मेरे को सब बताकर मामा के सामने खड़ी हो गयी।

मामी: देखो जी बिटिया का अभी फर्स्ट टाइम है। आराम से करना। इतना कहकर वो मेरे को कपडे उतारने को कहने लगी। मामा ने मेरी तरफ देखा तो मैं शर्म से पानी पानी हो गयी। मेरे से नंगी होने का काम नहीं पा रहा था। तभी मामी ने मेरे कपड़ो को निकालना शुरू किया। स्वेटर के साथ कुर्ता भी निकाल दी। मेरे को वो मॉडल बना कर पैंटी ब्रा में सामने कर दी।
मामा: अपनी बिटिया इतनी खूबसूरत है। मेरे को आज पहली बार लगा है। मेरे दूध को सहलाते हुए वो कह रहे थे कि बिटिया का दूध भी इतना बड़ा बड़ा हो गया है। अब इसकी शादी करने की उम्र हो गयी है।
मामी: तुम भी उसको नजर न लगाओ! जो काम है वो करो।

मै अपने सिर को नीचे झुकाये बैठी हुई थी। मेरे को तो मामा ऐसे देख रहे थे जैसे सुहागरात वाले दिन पति पत्नी को देखता है। मेरे को चिपका कर मामा मेरी शर्म दूर कर रहे थे। मामी सोफे पर बैठ कर ये सारा नजारा देख रही थी। मामी को बड़ा मजा आ रहा था। आज वो रियल सामने से ब्लू फिल्म देख रही थीं। मेरी चूत में बहोत जोर जोर से खुजली होने लगीं। मामा ने मेरे होंठ पर अपना होंठ लगाकर चुसाई करने लगे। मेरी नाजुक नर्म गुलाब की पंखुडियो जैसे गुलाबी होंठो को चूस चूस कर लाल लाल कर दिया। मेरी तो सांस फूल रही थीं। वो मेरे को गले पर किस करके उत्तेजित कर रहे थे। मेरे को अपना सबसे फेब्रेट अंग गला ही है। मेरे गले को किस करके उन्होंने पूरे बदन में बिजली दौड़ा दी। अब मेरे को भी चुदने की फीलिंग आने लगी। मेरा भी मन मचलने लगा। वो जितना ही किस करते मेरी गर्मी उतनी ही बढ़ रही थी। मामा ने मेरी ब्रा को निकाल कर मेरे सफेद सफेद बूब्स को देखने लगे। मामा गौर से देख ही रहे थे की मामी ने बोल दिया
मामी- अजी..इसे क्या देखते हो खुजली वाला अंग तो और भी ज्यादा खूबसूरत है।

इतने में मामा उत्तेजित होकर मेरे दूध टूट पड़े। मेरे दूध को दबाते हुए वो अपने मुह में निप्पल को भर के पीने लगे। मेरे को गुदगुदी जैसी लग रही थी। ऊपर सड़ जोश तो बढ़ता ही जा रहा था। मै “……अई…अई….अई……अई….इसस्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….” की सिसकारी भर के उन्हें अपने दूध में दबा रही थी। मेरे को मामी बहोत ध्यान से देख रही थीं। मामा ने दूध को छोड़कर अपना पौजामा उतारने लगे। मामा के पैजामे के अंदर उनका लंड अंडरबियर में पैक था। मामा ने अपना लंड निकाल कर सामने किया। उनका लंड गोरा गोरा सिकुड़ा हुआ था। मामी देखकर हँसने लगी।

मामी: अब ये तो प्रेसर ही नहीं बनायेगा जल्दी!!
मामा: अभी देखना कितनी जल्दी बनता है।
वो मेरे हाथ में अपना लंड देकर आगे पीछे करने को कहने लगे। मैंने ऐसा ही किया। ज़रा सा भी लंड न खड़ा हुआ तो मामा ने मेरे को मुह में रखकर चूसने को कहने लगे। मैंने उनका लंड अपने मुह में रखा तो धीरे धीरे उनका लंड खड़ा होकर फूलने लगा। वो अपना पूरा लंड मेरे मुह में घुसाये हुए थे। मेरे को ये सब करने में बड़ा अजीब लग रहा था। बचपन से लेकर आज तक मैंने किसी का अंडरबियर तक नहीं छुआ था। आज मेरे को लंड चूसना पड़ रहा था। मैं बहोत ही बुरा फील कर रहा था। मामा का फूलकर मेरे पूरे मुह में भर गया।

मेरा मुह फटने फटने को होने लगा। मामा अपना लंड निकाल ही नहीं रहे थे। मेरी आँखों में आंसू भर आये। मेरी सांस फूलने लगी। मेरे को लगा आज मेरा अंतिम दिन हैं। मामा की गांड में मै चुटकी काट रही थीं। मामी ने मेरे को देखा तो वो मामा से उनको लंड निकालने को कहने लगी। मामा का लंड निकलते ही मामी चौंक गयी। मामा के लंड को मामी ने हाथो से छूकर देखा तो वो लोहे के रॉड जैसा टाइट लगा। वो घूरते हुए मामा से कहने लगी
मामी: रोज तो मेरे लिए ढीला रहता है। आज टाइट कैसे हो गया।
तभी मामा ने मेरी पैंटी निकाली और कहने लगे “तेरी चूत इतनी जबरदस्त तो नही है”

मामी गुस्से से जाकर बैठ गयी। मामा मेरी दोनों टांगो को फैलाकर मेरी चूत को सूंघने लगें। मामा को वो खुशबू मन पर भा गयी। वो मेरी चूत को चाटने लगें। कुत्ते की तरह अपनी जीभ लगा लगा कर मेरी चूत चटाई कर रहे थे। मै “..अहहह् ह्ह्हह स्सीईईईइ… .अअअअअ….आहा …हा हा हा” की सिसकारियां भर रही थी।मेरी चूत के दोनो दीवारों को होंठो से पकड़ पकड़ कर पी रहे थे। मेरी चूत में से थोड़ा सा पानी जैसा निकला। मामा उसे चाट कर साफ़ कर दिया। वो अपनी जीभ मेरी चूत में घुसाकर सारा माल अंदर तक साफ़ कर रहे थे। मामी भी अब मेरे पास आ गयी। वो अपनी गोंद मेरा सिर रख कर लिटाये हुई थी। मामा अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ रहे थे।

कुछ देर तक रगड़कर मेरी चूत में वो घुसाने की कोशिश करने लगे। मेरी चूत में उनका लंड घुस ही नहीं रहा था। मामी ने थोड़ा सा नारियल तेल मेरी चूत पर गिरा दिया। मामा ने धक्का मारा और उनका थोडा सा लंड अंदर घुस गया। मै जोर जोर से “……मम्मी… मम्मी…..सी सी सी सी.. हा हा हा …..ऊऊऊ ….ऊँ. .ऊँ…ऊँ…उनहूँ उनहूँ..” की आवाज निकाल कर चिल्लाने लगी। मामी मेरे को पकडे हुए सहला रही थी।

मामी: डाल दो! जल्दी से अंदर नहीं तो अभी और भी दर्द करेगा!
मामा ने जोर लगा कर पूरा लंड अंदर चूत में घुसा दिया। मामी ने मेरे को सहलाना जारी रखा। मामा भी आराम आराम से चोद रहे थे। मेरे को बहोत दर्द हो रहा था। मामा ने मेरे को लगभग 10 मिनट तक आराम से चोदा। उसके बाद उनकी स्पीड बढ़ने लगी। मामा ने मेरे को बहोत जोर जोर से चोदना शुरू क़िया। मामा उछल उछल कर मेरे को चोद रहे थे। मेरी दोनों टांगो को उठाये गांड उठा कर चोद रहे थे। मै“आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” की आवाज निकल कर चुदवा रही थी। मामी ने मेरे को छोड़ दिया। मेरी चूत का दर्द भी आराम होने लगा। मेरे को बहोत मजा आ रहा था। मामा ने मेरे होंठो को चूम चूम कर चोदना शुरू किया। मामा का लंड जड़ तक घुसकर मेरे को मजा दे रहा था।

मामी भी गर्म हो रही थी। वो मामा की तरफ बार बार देख कर मामा को जोश दिला रही थी। मामा ने मेरे को उठा लिया। वो मेरे को झुकाकर मेरी चूत में अपना लंड घुसा दिया। उन्होंने मेरी कमर पकड़ कर जोर से लंड पेलना शुरू किया। मै तेजी से “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” की आवाज बाहर निकालने लगी। मेरे दोनो बूब्स लटक कर जोर जोर से हिल रहे थे। मामी ने आकर मेरे दोनों बूब्स को हाथो में ले लिया। वो दबा दबा कर मेरे को आनंद देने लगी। मै भी अपनी गांड हिला हिला कर जोर जोर से चुदवा रही थी। मामा मेरी गांड पर हाथ मार मारकर और जोर से चोदने लगे।

मेरे को पता ही नही चल रहा था कि कब उनका लंड अंदर घुसा कब बाहर! जोर की चुदाई ने मेरी चूत से पानी निकलवा लिया। मामा भी झड़ने ही वाले कुछ देर में हो गए। वो अपना लंड निकाले ही थे की मामी ने जल्दी से उनका लंड अपने मुह में रख लिया। मामा ने सारा माल मामी के मुह में गिरा दिया। मामी ने सारा माल पीकर आराम से बैठ गयी। मै भी बहोत थक गयी। मामा मामी और हम तीनों लोग चिपक कर लेट गए। मेरे को अब चुदने की आदत हो चुकी थी। मामी मेरे सामने ही मामा से चुदवा लेती थी। मै भी कभी कभी मजा ले लेती थी। हम तीनों लोग रोज रात को मजा करते हैं। आपको स्टोरी कैसी लगी मेरे को जरुर बताना और सभी फ्रेंड्स नई नई स्टोरीज bukovsky2008.ru पर पढ़ते रहना. आप स्टोरी को शेयर भी करना.

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone