कामवाली बाई के साथ पहली चुदाई

Click to this video!
loading...

अनिकेत ने लंड को फिर से अंडरवियर में ही खाली कर दिया आज फिर से. वो अपनी कामवाली के मुहं से फ़रियाद सुनना चाहता था की साहब आप की चड्डी रोज गन्दी होती है. दरअसल पिछली दो कामवालियों को उसने अपना सेक्स स्टेमिना दिखा के ही चोदा था. जब कामवाली कपडे धोने के लिए गई तो आज फिर से उसके अन्दर सफ़ेद गाढ़ी क्रीम लगी हुई थी. और आज अनिकेत को ऑफिस में छुट्टी थी इसलिए वो बरमूडा पहन के हॉल में सिगरेट पीते हुए अखबार पढ़ रहा था.

लेकिन उसका ध्यान तो सामने बाथरूम में कपडे धोती हुई कामवाली की गांड पर ही था. वो बार बार पेपर से अपनी नजर को ऊपर कर के उसके उछलते हुए कूल्हों को ही देख रहा था. और अब अनिकेत से रहा नहीं गया. वो उठ के बाथरूम के पास आया. बाई ने मुड के देखा और अपने साहब को स्माइल दिया. बाई का दिल भी जोर जोर से धडक रहा था.

loading...

बाई नीता भी कोई दूध की धूली तो थी नहीं. वो खुद भी एक्स्ट्रा इनकम के लिए अब साहब लोगो के लिए सलवार के नाडे खोलती आई थी. अनिकेत ने थोडा स्लो कर दिया था अपना काम. वो इस आस पर था की रोज मुठ मार के अपनी चड्डी दिखा के वो कामवाली को उत्तेजित कर देगा.

loading...

लेकिन उसके दिमाग में ये बात थी नहीं की कामवाली को चुदाई का डोज मिलता रहता था घर में पति से औरबहार दुसरे घरों में जहाँ वो काम करती थी. इसलिए उसका उत्तेजित होना उतना फिक्स्ड था नहीं. अनिकेत को आज ये बात अपने दिमाग में फिट करने में समय नहीं लगा.

वो बाई के और करीब हुआ और बोला, बाई सब ठीक तो है ना काम में?

जी बाबु जी.

कोई तकलीफ तो नहीं है ना?

नहीं कोई तकलीफ जैसा नहीं है.

अनिकेत का गला सूखने लगा था. वो और करीब हुआ बाई के और धीरे से अपने लेग को बाई की गांड पर टच कर दिया. वाऊ क्या सॉफ्ट गांड थी बाई की. उसे लगा की बाई कुछ सिग्नल देगी, या फिर हडबडा उठेगी गांड पर पाँव के लगने से. लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ दोनों में से.

बाई तो जैसे कुछ हुआ ही ना हो वैसे कपडे धोने के काम में ही रही अपने. अनिकेत ने टांग को और आगे कर दिया और उसके अंगूठे के ऊपर बाई की चूत की भीनी त्वचा टच होने लगी थी. अनिकेत धीरे धीरे से उसे सहलाने लगा. कामवाली ने पीछे देखा और बोली, साहब क्या कर रहे हो आप?

कुछ नहीं तुम अपना काम करती रहो. मैं थोडा मजा ले लूँ!

कामवाली हंस के कपड़ो के ऊपर साबन लगाती रही. अनिकेत ने और आगे बढ़ के अब कामवाली के कंधे को पकड़ लिया. अनिकेत देखता ही रहा की कामवाली भी एकदम रंडी ही थी. वो कुछ नहीं बोली. अनिकेत ने उसके गिले कपडे टच किये और वो वही बैठ गया. बरमूडा गिला होने का भी उसे अभी कोई डर नहीं था. वो आराम से कामवाली की बड़ी गांड से खेलता रहा कुछ देर के लिए. और फिर उसका एक हाथ आगे कामवाली की छाती पर चला गया.

ब्लाउज की गली में होते हुए उसने एक हाथ को अन्दर डाल दिया और उसके तने हुए लेकिन एकदम बड़े बूब्स के साथ वो खेलने लगा. कामवाली अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह सीई अह्ह्ह्ह कर उठी. अनिकेत ने अब एक हाथ उसकी गांड के निचे से होते हुए उसकी चूत पर रख दिया. पानी में भीगी हुई कामवाली की चूत का अहसास एकदम गर्म था. अनिकेत ने जल्दी से उसे खड़ा कर दिया. और उसकी पेटीकोट को खोल दिया. कामवाली भी एकदम निर्लज्ज अदा के साथ उसके सामने खड़ी हुई थी. उसकी देसी चूत एकदम झांट के गुच्छोंवाली थी. अनिकेत ने एक ऊँगली से चूत के छेद को थोडा हिलाया. और कामवाली ने एक अह्ह्ह इस्स्स्सस्स्स्स निकाल दी.

अनिकेत खड़ा हुआ और अपने बरमुडे को उसने घुटनों तक निकाला. उसका लंड एकदम तन चूका था. कामवाली बाई ने उसे अपने हाथ में ले लिया और हिलाने लगी. अनिकेत कुछ नहीं बोल पाया. उसका गला सुख चूका था!

कामवाली ने साहब के लौड़े को थोडा हिला के फिर अपने मुहं में ले लिया. और वो उसको जोर जोर से चूसने लगी. अनिकेत ने कामवाली बाई के बालों में हाथ फेरा और वो उसके मुहं को चोदने लगा. कामवाली को लंड चूसने का अच्छा अनुभव लग रहा था. क्यूंकि उसने एक मिनिट के अन्दर ही पुरे लंड को अपने मुहं में ले लिया और वो उसे जोर जोर से किस देते हुए सक कर रही थी.

पांच मिनिट के बाद अनिकेत ने अपने लंड को उसके मुहं से निकाला. और कामवाली वही बाथरूम के अन्दर दिवार को पकड के खड़ी हो गई. अनिकेत ने उसकेबी बचे हुए कपड़ो को मोड़ दिया और कामवाली ने उसे कमरे में खोस सा लिया. वो अपनी गांड को पीछे की तरफ कर के खडी हुई थी. अनिकेत ने पहले तो चूत के चिकने पानी में लंड को घिसा. कामवाली बोली घुसा दो घुस जाएगा आप ने मुनिया को एकदम चिकनी कर दिया है साहब.

अनिकेत ने एक धक्का दिया और उसका लंड जैसे किसी गर्म गोदाम में घुस गया था. कामवाली की चूत उसके लंड को गर्मी और प्रेशर दोनों दे रही थी. अनिकेत ने उसकी कमर पकड़ ली और चोदने लगा. कामवाली भी अपनी गांड को आगे पीछे कर के चुदवा रही थी.

अनिकेत ने कामवाली की गांड पर चांटे मारे और फिर उसके बूब्स को मसलते हुए जोर जोर से चोदने लगा. एक मिनिट और चुदाई की होगी और उतने में तो कामवाली की चूत में ही अनिकेत के लंड का फव्वारा चूत गया.

कामवाली ने सही टाइम पर चूत को कस लिया और सब का सब पानी अन्दर ही ले लिया. कामवाली ने चूत को ढीला किया और अनिकेत ने ज्यूस से सना हुआ अपना लंड उसके अन्दर से बहार निकाल लिया. कामवाली ने अपनी पेटीकोट पहनी और ऊपर के कपडे सही कर के वो वापस कपडे धोने के लिए बैठ गई. अनिकेत कमरे में गया और बटवे से पांच सो का नोट ले के आया. और वो नोट उसने कामवाली के ब्लाउज में उसके बूब्स की क्लीवेज में रख दिया. और उसने कामवाली बाई को कहा, आगे लम्बा करेंगे तो इस से ज्यादा पैसे दूंगा.

कामवाली मूड के कहा, आप जैसा करना चाहो वैसे कर लेना साहब. मैं तो कितने दिनों से आप का दुःख देख के खुद ही परेशान थी?

अनिकेत ने चौंक के कहा, मेरा दुःख?

कामवाली ने कहा, हां आप लंड हिला हिला के चड्डी को रोज गन्दा करते  थे तो मैं प्रार्थना करती थी की आप को जल्दी से किसी का बुर मिल जाये चोदने के लिए तो आप की रोज की उलझन दूर हो.

अनिकेत ने कहा, अब तुम मिल गई हो तो चड्डी गन्दी नहीं करूँगा!

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone