बिहारी और मैंने मिल के बहन को चोदा


Click to Download this video!
loading...

कैसे हो आप सब लोग मेरे दोस्त लोग? सभी पढनेवाली चूतों को मेरे साड़े 6 इंच के लंड का सलाम और लडको के लंड को मेरी बहन की चूत का प्यार मैं करन अपनी बहन हर्षा को बहुत चोदता हूँ. और वो कई बार मेरे लंड को अपनी चूत का भोग दे चुकी है. आज मेरी बहन की चुदाई की एक और कहानी आप लोगों के लिए ले के आया हूँ. और आशा है की आप इसे जरुर पसंद करेंगे.

कहानी को स्टार्ट करने से पहले आप को हर्षा के बारे में बता दूँ. वो 26 साल की है और उसका फिगर 34 28 36 का है. और आप इस से पता लगा सकते हो की वो कितनी धांसू माल होगी. और मुझे उसकी चूत चोदने का बड़ा शौक है. मैं हफ्ते में 1 2 बार उसके साथ सेक्स ना करूँ तो मुझे चैन नहीं आता है जैसे. मेरी बहन और मैं हमारी लाइफ को फुल एन्जॉय करते है.

loading...

दशेरा था तो पंजाब में बहोत जगह पर मेले लगे हुए थे. और मैं अपनी बहन के जिद्द करने की वजह से उसे मेले में ले जाने के लिए मान गया. मानता भी क्यूँ नहीं क्यूंकि उसकी चूत ही अकेली सहारा है मेरे हवस वाले लंड के लिए. हर्षा ने मेले में जाने के लिए शोर्ट पहन ली.

loading...

लेकिन मेरी माँ के लडने की वजह से उसने शॉर्ट्स निकाल के फिर नोर्मल कपडे पहन लिया. उसने एक टाईट सा पजामा और मस्त टी शर्ट और निचे अन्दर पेंटी नहीं पहनी थी. (वो मुझे बाद में पता चला मेले में जाने के बाद). पहले तो मेले में हम दोनों खूब अच्छे से घुमे. हम फिर  उसको राइडस में बैठना था तो टिकिट लेकर लाइन में लग गए. बहुत ही ज्यादा भीड़ थी राइडस की लाइन में तो.

मैं उसके पीछे था पता नहीं क्यूँ मेरा लंड थोड़ी मस्ती में था. और भीड़ होने की वजस से मैं बिलकुल उसके पीछे चिपक कर खड़ा था. तो पता चला की उसने पेंटी नहीं पहनी थी. मैंने उसको पूछा तो बोली मैं मेले मे मजे लेने आई थी. पर आप पीछे खड़े हो गए तो सारा मजा खराब कर दिया. मैंने बोला कोई बात नहीं अगली राइड में तू पीछे आ जाने मेरे. वो थोडा खुश हो गई और हमारा नम्बर आ गया राइड के लिए.

अगली राइड में जैसे मैंने उसे कहा था वैसे मैं उसके पीछे खड़ा हो गया. और मेरी बहन के पीछे एक बिहारी खड़ा हुआ था. उसका रंग काला था और मेरी बहन ने उसके लंड की तरफ देखा तो वो खुश हो गई. मेरी बहन को जितना बड़ा लंड हो उतना ही मजा ज्यादा आता है. और भीड़ में उसने अपने हाथ को मेरी जांघ पर रखा था और बिच बिच में वो मेरे लंड को भी टच कर लेती थी.

मैंने उसको पूछा की बहन कैसे लग रहा है? तो उसने कहा बहुत मज़ा आ रहा है, इस बिहारी ने तो मेरी चूत में आग ही लगा दी है. मैं हंस पड़ा. और हमने वो राइड ले ली. और फिर फिर अगली राइड के लिए गए तो मैंने देखा की एक बार फिर से वो बिहारी हमारे पीछे ही आया था. शायद उसे भी मेरी बहन के बदन पर लंड टच करवाने का मजा आया था. इसलिए वो उसके पीछे लगा हुआ था.

मैंने अपनी बहन से कहा की देख तेरे लिए बिहारी का लंड कितना तड़प रहा है. उसने भी पीछे देखा और बिहारी को आँख मार दी. ऐसे हमने दो राइडस और लिए. और दोनों ने ही वो बिहारी मेरी बहन के पीछे ही खडा हुआ था. मैंने अपनी बहन को धीरे से पूछ लिया की क्या तेरे को इस बिहारी के साथ मजे करने है?

तो वो बोली कैसे? मैंने कहा की इस बिहारी को कही लेकर चलते है. मेरी बहन तो पहले से ही तवे के जैसी गरम थी. इसलिए उसने एक ही झटके में मेरी बात मान ली.

मैंने राइड से निकलने के बाद हाथ का इशारा कर के इस बिहारी को बुलाया. वो थोडा घबराया हुआ था. मैंने उसको बोला अरे डर मत मजा ले रहा था तू वो मेरा ही माल है. वो कुछ समझ नहीं पाया इसलिए चुप था. मैंने बोला देखा मुझे सब पता की तू उसके पीछे खड़ा हो कर क्या कर रहा था. वो बोला सोरी भाई साहब माफ़ कर दो गलती हो गई मेरे से. मैंने बोला अरे डर अत कुछ नहीं बोल रहा मैं. लेकिन तुझे हमारा एक काम करना होगा.

तो वो बोला मैं आप का क्या काम कर सकता हूँ साहब. मैं बोला तुम्हे मेरी माल के मजे करे तो उसकी आँखे निचे हो गई? मैं बोला अब ये गरम हो गई है उसको ठंडा करना है.. वो मेरी तरफ एकदम परेशानी से देख रहा था. मैं बोला क्या हुआ तब तो कुछ देर पहले बड़ा घुस रहा था उसकी गांड में साले. और तभी मेरी बहन भी हमारे पास आ गई. और उसने अँधेरे और भीड़ का फायदा ले के अपने हाथ से बिहारी के लंड को हल्का सा टच कर लिया. और फीर वो वापस चली गई, शायद वो लंड की गर्मी देखने के लिए ही आई थी.

मैंने उस बिहारी को साथ लिया और गाडी में ले आया. और हम पास के ही एक होटल में गए. वहां रूम में गए. मैं और मेरी बहन बेड पर बैठ गए. और बिहारी एक कौने में खड़ा था. तो मैंने अपनी बहन को बोला हर्षा देख बिचारा डर रहा है निकाल दे उसका डर. तो बहन ने उसके पास जाकर उसका पाजामा उतार दिया.

वो एकदम चौंक गया और अब मेरी बहन ने उसका अंडरवियर भी उतार दिया. और निचे बैठ कर उसके लंड के पास जैसे ही गई तो बोली, ईईईइ भाई बहोत ही गन्दी स्मेल आ रही हे इस से तो! वो मेरी तरफ परेशानी से देखने लागा जब हर्षा ने मुझे भाई बुलाया तो. मैं बोला क्क्य हुआ साले ऐसे क्या देख रहा है बे?

वो बोला साहब आप भाई बहिन हो? मैं बोला तुझे माल मिल रहा है चोदने को वो चाहिए या भाई बहिन में घुसेगा? वो मेरी बात सुन के चुप हो गया. बहन उठकर मेरे पास आ गई. मैंने बिहारी को नाहा कर आने को बोला और वो बाथरूम में नहाने चला गया.

जब तक वो नाहा रहा था मैं और हर्षा मस्ती करने लगे. मैंने हर्षा को एकदम न्यूड कर दिया और उसने मुझे. हम किसिंग करने लगे अहह अह्ह्ह अहम्म्म्म!

और फिर मैं अपनी बहन के सारे जिस्म को चाटने लगा. बहन पूरी मस्ती में सिस्कारियां ले रही थी. और वो मुझे और भी चाटने के लिए कह रही थी.

फिर मैं उसके बूब्स को मसलने लगा. उसके पेट परबैठ कर उसे चूसने लगा. मैं बहोत जोर जोर से हर्षा के बूब्स को चूस रहा था. वो अह्ह्ह भाई आराम से अह्ह्ह्ह औउईई अह्ह्ह्ह माँ आराम से भाई भाई बहुत समय है हमारे पास, काटो मत भाई! हम मस्ती में फुल हुए थे और कब बिहारी नाहा के बहार आया वो पता ही नहीं चला हमें.

और वो एकदम नंगा ही खड़ा हुआ था हमारे सामने और हमें देख रहा था. जब मैंने उसको देखा तो बहन से बोला ये ले हर्षा आ गया तेरा आज का लंड.

बहन उठी औटी उस बिहारी के पास जाकर निचे बैठ के उसके लंड को सहलाने लगी और उसके साथ खेलने लगी. वो भी अब मस्ती में आने ला था. और वो मेरी बहन के जिस्म पर हाथ घुमाने लगा. बहन उसका लंड अपने फेस के साथ नाप रही थी. उसका लंड मेरी बहन के फेस से थोडा बड़ा था. शायद 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा देसी काला लंड था वो. और फिर इस बिहारी ने मेरी बहन को उठा के बेड में डाला और उसके ऊपर आ गया. और वो मेरे बहन के जवान जिस्म को चूमने लगा. पहले फेस पर, फिर गले पर और फिर वो मेरी बहन के होंठो को चूसने लगा.

जैसे ही उसने होंठो पर किस किया हर्षा ने उसे एक थप्पड़ मारा और बोला साले तेरी हिम्मत कैसे हुई मुझे किस करने की साले बिहारी! शक्ल देखी है अपनी. बिहारी डर गया और बहाण के बाकी के जिस्म को चटाने लगा. मेरी बहन मस्ती में अह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह ला तेरा बिहारी लंड अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह चाट साले कुत्ते तेरी आज चांदी है जो मैं चोदने को दे रही हूँ साले कुत्ते. फिर बिहारी ने हर्षा के एक हाथ को ऊपर कर दिया और वो उसके आर्मपिट्स को भी चाटने लगा.

लेकिन हर्षा ज्यादा चटवा नहीं सकीं क्यूंकि आर्मपिट्स में बिहारी की जबान लगने से उसे गुदगुदी हो रही थी. और वो एकदम से सिहर जा रही थी. और उसकी सिसकियाँ तो चालु ही थी.

और फिर इस बिहारी ने अपने लंड को हर्षा के पास कर दिया. लेकिन हर्षा बोली साले अब मैं तेरा लंड चुसुंगी क्या कुत्ते! वो मेरी तरफ देखने लगा. मैंने बिहारी को अपनी आँखों से इशारा किया और उसकी हिम्मत 100 गुनी हो गई. उसने हर्षा को एक कस के तमाचा मारा और बोला, साली मेले में तो गांड में लंड घुसवा रही थी और अब यहाँ सटी सावित्री बन रही है मादरचोद!

हर्षा मेरी तरफ देख के बोली, भाई देख उसने मुझे थप्पड़ मारा. मैंने हर्षा को कहा, अब इसका लंड खड़ा किया है तूने तो उसका उतना तो हक़ बनता हे तेरे ऊपर.

मैंने बिहारी को बोला, तेरे को जो करना है वो कर इसके साथ. तो हर्षा बोली अरे भाई क्या बोल रहा है तू, देख इस साले बिहारी का लंड कितना काला है. और काले का प्रॉब्लम नहीं हे लेकिन देख साले के लंड पर कितने बाल है. मैंने बोला अरे मेरी प्यारी बहन नखरे मत क्र ज्यादा और मजे ले ले. और मैंने अपने हाथ से हर्षा का मुहं खोला और बिहारी ने अपना लंड उसके अन्दर डाल दिया. और मैं निचे जा के हर्षा की चूत को चाटने लगा ताकि उसके ऊपर और भी मस्ती चढ़े. हर्षा एक बार झड़ कर पूरी गीली हो चुकी थी.

2 मिनिट बिहारी लंड चूसने के बाद अब वो भी फुल मस्ती में लंड का लोलीपोप कर रही थी. पुरे कमरे में बिहारी और बहन की सिसकियाँ गूंज रही थी. और मैं अपनी बहन की चूत में घुसा हुआ था और उसे जोर जोर से चाट रहा था.

बहन बड़ी मस्ती से बिहारी का लोडा चूस रही थी और अब उसकी तारीफ़ भी कर रही थी. और मैं उसकी चूत को और भी जोर जोर से लिक कर रहा था.

बिहारी का मजा भी चढ़ा हुआ था वो बोला, साहब क्या माल है आप की बहन तो लंड ऐसे चूस रही हे जैसे हम स्वर्ग में हो और वो मेरी अप्सरा. और फिर उसने कहा अब मुझे भी मेडम का भोसड़ा चख लेने दो. तो मैं हट गया और बहन के मुहं के पास आ गया.

मैंने बहन को खड़ा किया और बिहारी को लेटने के लिए कहा. और बहन को उसके मुहं पर बिठा दिया. और खुद बहन के मुहं में लंड डाल दिया अपना. बहन बड़ी मस्ती में थी और लंड ऐसे चूस रही थी जैसे कोई छोटा बच्चा पहली बार लोलीपॉप खा रहा हो. उसके मुहं से आवाजें भी आ रही थी लंड चूसने की. बहन लंड को पूरा मुहं में ले रही थी. और मैं उसे अह्ह्ह अह्ह्ह आई लव यु हर्षा, कम ओन सक इट यु माय लव, और वो ऊपर देख के हंसती थी और फिर मेरे लंड को वापस अपने मुहं में भर लेती थी.

उधर बिहारी निचे से मेरी बहन की चूत को चाट रहा था. बहन ने भी अपना पूरा वजन उसके मुहं पर दे दिया था. और उसको सांस लेने में दिक्कत होने लगी थी. लेकिन मुहे और बहन को तो जैसे कुछ पता ही नहीं था. तो उसने मेरी बहन की गांड में ऊँगली डाल दी. बहन उछल के बोली, कुत्ता साला! वो बोला अरे मेडम आप अभी हटी तो अच्छा हुआ मेरी सांस अटक गई थी आप के चूतड़ के निचे मेरी तो!

और फिर इस बिहारी ने मेरी बहन को अपनी गोदी में बिठाया और अपने लंड को चूत पर सेट कर के एकदम बहन की चूत में लंड पेल दिया. और बहन एकदम से चीख पड़ी अह्ह्ह्हह ईई भैया, साले आराम से कर मैं कौन सा भाग रही हूँ खुद ही लेकर आई हूँ तुझे! अह्ह्ह्ह मार दिया साले भडवे ने बहनचोद, तेरी माँ की चूत साले चोदना आता है की नहीं!

उसने बहन को टेबल पर लिटा दिया और उसकी टाँगे निचे कर के बूब्स पकड कर जोर जोर से पेलने लगा. बहन मोअन कर रही थी अह्ह्ह अह्ह्ह्ह फक फक अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह ओह ओह्ह्ह भाई अह्ह्ह्ह बोहोत मस्त लंड है बिहारी का अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्ह मार जोर से साले!

बिहारी अपने लंड की तारीफ़ सुन के एकदम जोश में था. और वो एकदम जानवर के जैसे मेरी बहन को चोदने लगा था. और उसके मुहं से अह्ह्ह ओह्ह्ह्ह साहब आप का बहुत शुक्रिया जो आप ने अपनी बहन की चूत मेरे को दिलवाई, अह्ह्ह्ह क्या माल हे ये साली!

और ऐसे अह्ह्ह अह्ह्ह उह्ह्ह उह्ह करते करते उसने हर्षा को और भी जोर जोर से चोदना चालू कर दिया. और फिर पांच मिनिट के अंदर ही उसका लंड मेरी बहन की चूत में झड़ गया. लेकिन हर्ष अभी तक झड़ी नहीं थी.

उसने बिहारी को लात मारी और गालियाँ देने लगी, साले खस्सी बहन का लोडा गांडू कुत्ता साले ने सारा मजा ख़राब कर दिया हिजड़े, भाग यहाँ से साले शकल मत दिखाना साले इतना मस्त लंड हे लेकिन 10 मिनिट भी ढंग से नही चोद पाया. मैं हंसने लगा. बिहारी सहम के बोला, आप के जैसा कडक और  जवान माल पहली बार चोदा इसलिए जल्दी निकल गया पानी मेडम!

लेकिन हर्षा की चूत अभी तवे के जैसे ही गरम थी और वो उसे और भी गालियाँ ही देती रही. मैंने बहन को शांत किया और उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया. वो झेल नहीं पाई और एकदम से अह्ह्ह्हह भाई आराम से कर ना!

फिर मैंने हर्षा को मस्त चोदा करीब 15 मिनिट तक. उर फिर मैं और मेरी बहन एक साथ ही झड़ भी गए. अब वो थोड़ी शांत हुई और फिर बिहारी बहन के पैरो को चाटने लगा. और बोला मेडम माफ़ कर दो पहली बार आप जैसा माल मिला तो इसलिए जल्दी झड़ गया. और पैरों से चाटता हुआ वो बहन की चूत तक चला गया. मेरी बहन ने उसके माथे को जोर से अपनी चूत पर दबा दिया.

वो भी समझ गया और मस्ती से हर्षा की चूत को चाटने लगा. और फिर बाद में उसने बहन को जम कर 2 शॉट मरे और करीब 20 25 मिनिट तक एकदम बिना रुके चोदता ही रहा. और फिर उसने बहन के पेट पर अपना माल निकाला. फिर हम तीनो बाथरूम में साथ में नाहाये.

मैंने खाने के बाद खाना ऑर्डर किया और खाने के बाद बिहारी को भेज दिया. और फिर रात तक मैं और मेरी सेक्सी बहन उस कमरे में मस्ती करते रहे!!!

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone