आंटी एक नम्बर की चुदक्कड


Click to Download this video!
loading...

हेलो दोस्तों मेरा नाम अजय है और मैं राजस्थान से हूं. मैं आपको अपनी एक सच्ची सेक्स घटना के बारे में बताने जा रहा हूं जो कि मुझसे जुड़ी हुई है और पूरी की पूरी एकदम सच्ची है. इसको पढ़कर आपको भी खूब मजा आएगा.

दोस्तों चलो अब मैं आपको अपनी कहानी सुनाता हूं, अब आप सब अपना पानी निकालने के लिए तैयार हो जाए.

loading...

दोस्तों यह बात आज से एक महीने पहले की है. दोस्तों में आपको बता दूं कि मेरे पड़ोस में एक आंटी रहती है जिसका नाम अनु है और वह ३८ साल की है और उसका फिगर क्या मस्त माल है और ३८-३०-३८ का फिगर है जो कि बहुत ही अच्छा है और उसके गोल गोल चुत्तड और मोटी सी गांड को देखकर मेरा लंड खड़ा हो जाता है.

loading...

आंटी एकदम गोरी चिठ्ठी है और आज की मेरी यह कहानी उन्हीं के साथ हुई क्योंकि उन्हें जब भी देखता हूं तो मेरा उन्हें चोदने का मन करता है, और इसी के चक्कर में मैंने कई बार उनके नाम की मुट्ठ भी मारी है.

दोस्तों आंटी के पति एक आर्मी ऑफिसर है जिसकी वजह से उनकी चूत भी तड़पती रहती है और एक  दिन की बात है, मैं सुबह के समय आंटी के पास गया. तो मैंने देखा कि आंटी घर पर अकेली थी और जब उनसे पूछा तो उन्होंने बताया कि अंकल का तो तुम्हें पता ही है और बच्चे अपने मामा जी के घर गए हुए हैं.

में वहां से वापस आने को  चलने लगा तो आंटी ने मुझे रोक दिया और कहा बेटा तुम यहीं रुक जाओ. मैं नहा लेती हूं ताकि घर का ख्याल तुम रख पाओ. अब मैं आंटी की बात मानकर उनके बेडरूम में बैठ गया और आंटी ने जाते हुए यह भी कहा कि पीसी भी ठीक कर देना तो मैं यह सुनकर हैरान हो गया आंटी भी पीसी चलाती है और अब आंटी  अंदर बाथरुम में चली गई तो मेरी नजर ऐसे ही बेड पर पड़ी तो देखा कि उनकी ब्रा और पेंटी बेड़ पर ही पडी थी.

अब में ऐसे ही आंटी का इंतजार करने लगा तो करीब १५ मिनट के बाद आंटी ने आवाज लगाकर कहा की टॉवेल पकड़ा दो, तो मेने उनका टोवेल पकड़ा दिया, और फिर उनकी फिर से आवाजा आई और कहा कि अब मेरी ब्रा और पैंटी भी पकड़ा दो, तो मैंने वह भी पकड़ा दी और फिर आंटी वाइट सूट पहनकर बाहर आ गई और उनको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया, और मेरी नजर नीचे ब्रा पर पड़ी तो मैंने खुद को कंट्रोल कर के वहां से चलने को कहा.

अब आंटी ने मुझे फिर से रोका और कहा कि तुम्हें कोई काम है क्या? तो मेंने कहा कि नहीं.. आंटी ने कहा कि तुम भी यहीं रुक जा में बहुत बोर होती हूं और तुम रहोगे तो बात करेंगे टाइम पास भी हो जाएगा. मैं उनकी बात सुनकर उनके पास बैठ गया और कुछ देर में वह लाइफ से जुड़ी बातें करने लगी. जब मैं भी उनकी बातों में इंटरेस्ट लेने लगा तो उन्होंने अचानक से मुझे पूछ लिया कि मुझे तुम्हारी गर्लफ्रेंड है या नहीं?

मुझे उनकी बात सुनकर थोड़ी सी शर्म आ गई और मैंने ना मे सर हिला दिया. आंटी फिर से बोली कभी सेक्स किया है किसी से? क्या तुम्हें भी सेक्स पसंद है? बताओ अजय.

मैंने झट से जवाब दे दिया नहीं आंटी मुझे पसंद नहीं है और ना ही मैंने कभी सेक्स किया है मेरी बात सुनकर थोड़े गुस्से में बोली तुम बहुत खराब हो, बहुत ज्यादा झूठ बोलते हो. मुझे सब पता है तुम्हारे बारे में. तुमने अपने घर की कामवाली को नहीं छोड़ा फिर उसके बाद नेहा को भी चोदते हो तुम जब भी उसकी चूत में लंड लेने की खुजली होती है वह जट से तुम्हारे पास आ जाती है और तुम उसे तसल्ली से चोदते हो. मुझे लगता है अब मुझे तुम्हारी मम्मी से बात करनी पड़ेगी अब अपने लड़के की शादी कर दो यह मोहल्ले की लड़कियों और आंटीयों को चोदता फिरता है.

उनकी बात सुन कर मैं डर गया और सारा डर मेरे चेहरे पर साफ दिख रहा था. तभी आंटी बोली अरे पागल तुम डरो मत मैं किसी को कुछ नहीं बताऊंगी, डरो मत और हां मैंने तुम्हें नंगा भी देखा है.

मैंने बोला – आप ने मुझे नंगा कब देख लिया?

आंटी ने कहा जब तुम मेरे घर के बाथरूम में फ्रेश हो रहे थे.

मैं उनकी यह बात सुनकर कुछ नहीं बोला. मेरी नज़रें नीचे की तरफ थी आंटी फिर से मुझे देखते हुए बोली मुझे बेटा तुम नेहा की चूत के गुलाम बन सकते हो तो क्या थोड़ी सी प्यास मेरी चूत कि नहीं मिटा सकते तुम? मैं और मेरी चूत भी एक दमदार लंड के लिए काफी टाइम से तड़प रही है.

मैं उनकी यह बात सुनकर मन ही मन खुश हो रहा था. मैं सोच रहा था कि जिस आंटी को चोदने के बारे में दिन रात सोचता और जिससे में डरता था आज वही खुद मुझसे चुदने के लिए तैयार हो रही है वह क्या बात है.

तभी आंटी ने मेरे लंड पर अपना हाथ रख दिया. मुझे यह सब बहुत अच्छा लग रहा था मैंने आज पैंट के नीचे अंडरवियर नहीं पहना था. मेरा ७  इंच का लंड आंटी के हाथ में पूरा आ गया था. मैं बहुत खुश था क्योंकि आज मै पहली बार किसी से ३७ साल की औरत की चूत मारने जा रहा था, मैं और मेरा लंड आंटी की जवानी के मजे लूटने के लिए तैयार था.

आंटी ने कहा चलो अब मुझे अपना लंड दिखाओ.. मैं भी आज देखती हूं इसमें ऐसी क्या बात है जो कि हमारे मोहल्ले की लड़कियां हमेशा तेरे लंड के लिए पागल हो रही है.

आंटी की बात सुन कर मैंने अपनी पेंट उतार दी और फिर आंटी ने मुझे शर्ट भी उतार ने को कह दिया. मैंने अपनी पैंट, शर्ट और बनियान भी उतार दी. अब में आंटी के सामने पूरी तरह से नंगा हो चुका था.

आंटी मेरे लंड के पास आई और उसे अपने गोरे-गोरे हाथों में लेकर अच्छे से देखने लगी और बोली तुम ऐसे मुझे क्या देख रहे हो? तुम मेरे बूब्स को दबाओ समझे..

यह कहते आंटी ने अपनी सलवार और कमीज मेरे सामने उतार दी. और निचे बैठकर मेरे लंड को चूसने लगी. मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैं आंटी की ब्लैक कलर की ब्रा को खोलने की कोशिश कर रहा था और वह खुल नहीं रही थी, तभी आंटी बोली तुमसे नहीं खुलेगी मैं खोल देती हूं.

आंटी ने अपने आप अपनी ब्रा और पेंटी दोनों उतार दी. फिर आंटी ने मेरे लंड को अपने दोनों बूब्स के बीच में रख दिया और फिर अपने बूब्स से मेरे लंड को चोदने लग गई मुझे उस में बहुत मजा आ रहा था, अब मेने बूब्स से अपना लंड निकाला और उनके मुंह में डाल दिया. मैंने आंटी के मुंह को खूब अच्छे से चोदा और फिर मैंने आंटी को बेड पर सीधा लिटा दिया और उनकी गांड के नीचे पिलो रखकर उनकी दोनों टांगे खोलकर अपना मुह आंटी की चूत पर रख दिया.

अब मैंने आंटी की चूत को चूसना शुरू कर दिया, इससे आंटी पूरे जोश में आ गई, उनके मुंह से बहुत जोर से अह यू यह्ह्ग हो अहह उय्य आवाज निकलने लगी. मुझे बहुत मजा आ रहा था क्योंकि मैं आज पहली बार ३७  साल की औरत की जवानी के मज़े ले रहा था. मेरी जीभ आंटी की चूत के मजे ले रही थी, कुछ ही देर में आंटी की चूत ने पानी छोड़ दिया और मेने अपनी जीभ से उनके चूत के पानी को चाट चाट कर पी गया.

आंटी को आज बहुत खुशी महसूस हो रही थी और फिर वह बोली – अजय बेटा तुम तो कमाल के हो.. आज तक ऐसा मजा मुझे तुम्हारे अंकल ने नहीं दिया जो मजा तुमने मुझे १०  मिनट में ही दे दिया. अब ऐसा करो जल्दी से मेरी चूत मार लो. मेरी चूत तुम्हारे लंड के लिए तड़प रही है.

मैंने उनकी यह बात सुनते ही अपना लंड उनकी चूत पर रख दिया और एक धक्का मारा मैंने आंटी की बात भी खत्म नहीं होने दी और मेरा आधा लंड उनकी चूत में घुस चुका था. आंटी के मुंह से एक जोरदार चीख निकली और फिर ऐसे ही कुछ बोलने लगती तो मैं फिर से एक जोरदार धक्का मार देता जिससे मेरा लंड उनकी चूत में अपना कहर मचा देता.

अब मेरा लंड पूरा उनकी चूत की जड़ तक पहुंचा हुआ था. मुझे सच में बहुत मजा आ रहा था. आंटी भी मुझ से चूद रही थी. मैंने उनकी चूत को करीब 20 मिनट तक चोदा और फिर अपने लंड का सारा पानी उनकी चूत में ही निकाल दिया.

फिर हम दोनों एक दूसरे के ऊपर ऐसे ही नंगे लेटे रहे और बातें करते रहे. मुझे पता था कि आज मेरे पास एक अच्छा मौका है इसलिए मैं आज इस मौके का पूरा फायदा उठाना चाहता था. इसलिए मैंने बोला आंटी अगर मैं आपसे आज कुछ मांगू तो क्या आप मुझे वह चीज दोगी?

वह  मेरे होंठों को चूमते हुए बोली आज से तुम मेरे असली पति, तुम्हें जो चाहिए बिना डरे हुए बोलो.

मैंने बोला मुझे आपकी गांड चाहिए.

मेरी बात सुनते ही उन्होंने मुझे अपने ऊपर से हटाया और मेरे सामने घोड़ी बन गई और बोली लो मेरे राजा आज गांड भी मार लो मेरी, पर आराम से मारना यह मेरी गांड हे चूत नहीं समझे. फिर मैंने अपने दोनों हाथों से उनकी गांड को खोला और उनकी गुलाबी गांड के छेद पर अपनी जीभ लगा कर उसे अच्छे से चाटा. आंटी बोली अरे वाह मजा आ गया बेटा यह सब कहां से सीखते हो तुम? आई लव यू.

इतने में मैंने उनकी गांड को अच्छे से गीला कर दिया और फिर मैंने उनकी गांड पर अपना लंड सेट किया, एक हल्के से धक्के से अपना एक  इंच लंड अंदर डाल दिया और धीरे-धीरे आंटी की गांड में अपना पूरा लंड डाल दिया. आंटी को पहले तो काफी तकलीफ हुई पर उसके बाद आंटी को पूरा मजा आने लगा. और वह खुद ही अपनी गांड को मेरे लंड पर जोर जोर से मारने लगी. और करीब ४० मिनट की जबरदस्त गांड चूदाई के बाद मैंने आंटी की गांड में ही अपने लंड का सारा पानी निकाल दिया.

उसके बाद हम दोनों ने बाथरुम में एक दूसरे को अच्छे से साफ किया और जब तक उनके बच्चे वापस नहीं आये तब तक मैं उन्हें ऐसे ही डेली चोदता रहा और अब मुझे जब भी टाइम मिलता है तब मैंने उन्हें चोद देता हूं.

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone