70 साल के बूढ़े से नंगी होकर मसाज करवाई


Click to Download this video!
loading...

मेरा नाम मीना है और मैं 45 साल की हूँ. मैंने अपनी फेमली के साथ गुडगाँव में रहती हूँ. मेरा कलर घेहूँआ है और मेरी हाईट 5 फिट 8 इंच है. मैं देखने में खुबसुरत हूँ, मेरा फिगर 40D 34 -44 का है. मैं बड़े और कर्वी साइज़ की औरत हूँ. मेरे शोल्डर्स चौड़े है, कमर भी. और गांड और दूध भी काफी बड़े बड़े है. जैसे की शादी के कुछ सालों के बाद औरतो का फिगर होता है वैसा मेरा भी फिगर है. मेरी थाईस और हिप्स भी एकदम मोटी है. मैं कैसी दिखती हूँ ये सब आप सब समझ ही गए होंगे. मैं इस उम्र में भी सेक्स की बड़ी भूखी हूँ और मुझे एक्सपेरीमेंट करना अच्छा लगता है. ये बात आज से करीब एक साल पहले की है. मैं ओल्ड एनसेस्ट्रल विलेज में अपनी प्रॉपर्टी को देखने जाती थी. और कुछ दीन वही पर रहती थी. कभी कभी मैं और मेरे हसबंड दोनों ही जाते थे और कभी कभी मैं अकेली ही जाती थी. मैं वहां पर अपने बड़े फ़ार्महाउस में टाइम बिताना पसंद करती थी. मेरे हसबंड के पास टाइम कम ही होता था तो तो अपने काम से वापस सिटी जल्दी आ जाते है. मेरे विलेज में एक बूढ़े रिटायर्ड बार्बर रहते है जिनका नाम रमेश है. वो करीब 70 साल के है और बार्बर का काम छोड़ चुके है. वो मेरे घर आते रहते है क्यूंकि वो बहुत अच्छा मसाज करते है और मेरे हसबंड उनको पैसा देते है. उस दिन रमेश अंकल शाम को घर आये. करीब 8 बज रहे थे.

वो मेरे हसबंड का मसाज करने आये थे पर वो नहीं थे तो मैं अंकल से बोली की अब तो वो वापस चले गए. ये सुन कर वापस जाने लगे तभी मेरे मन में एक ख़याल आया. मैंने उनको रोक लिया और शर्म से उनसे मसाज करने के लिए बोला तो वो बोले ठीक है मैं कर दूंगा और उनकी फ़ीस भी देने के लिए राजी हो गए. मैंने अंकल से बोल दिया की मेरे हसबंड को कुछ नहीं बताना. वो मान गए. मैं उस दिन काम से काफी थक गई थी और रमेश अंकल के मसाज की तारीफ़ भी मैंने बहुत सुनी थी. रमेश अंकल से मुझे कोई डर नहीं था क्यूंकि मैं उनको जानती थी और मुझे पता था की अब उनका लंड खड़ा होना बंद हो चूका और वो बिना वाएग्रा की शायद ही कुछ कर सकते है. मैं उनसे अपने लेग्स और शोल्डर नेक की मालिश के लिए बोली और उनको रूम में ले गई. और मैंने उन्हें अब मेरा मसाज करने के लिए बोला. नोकरानी घर में ही बगल के कमरे में इसलिए मैंने उन्हें कहा की चुपचाप मालिश करना अंकल.

loading...

वो समझ गए और रूम में जा के निचे फ्लोर पर एक मेट्रेस बिछा दिया और मैं पीछे से ही अपनी साडी उतर के आ गई और ब्लाउज और ब्रा को भी उतार दिया. मैं अपने दूध पे पेटीकोट को ऊपर कर के बढा लिया. अंकल सीधे बोले आप यहाँ लेट जाओ. और अंकल ने मेरे दूध को सपोर्ट देने के लिए दो पिलो लगा दिए जिस से मेरे दूध पिलो के बिच में आ गए और मैं पेट के बल पीठ को आकाश की तरफ कर के लेट गई. अंकल चुपचाप मेरे ऊपर बेक और शोल्डर्स पे आयल रब करने लगे. मुझे उनके हाथ से आराम मिल रहा था. अंकल हाथ मेरे स्किन और मसल को बड़ा आराम दे रहे थे और उनके हाथ अभी भी स्ट्रोंग थे. उनकी पावर से मुझे बड़ा अच्छा लग रहा था. अब वो मेरी अपर बेक को मालिस करने लगे और उनके हाथ साइड और आर्मपिट हर जगह रब हो रहे थे. वो मुझे मसाज करते हुए इधर उधर की बातें भी धीरे धीरे कर रहे थे. bukovsky2008.ru

loading...

फिर अंकल लेग्स का मसाज करने लगे और उनके हाथ ऊपर निचे होने से मेरी पायल आवाज करने लगी तो वो बोले इसको मैं खोल कर देखता हूँ, आवाज कर रही है और फिर वो मालिश करने में लग गए. उनके हाथ कभी जल्दी तो कभी धीरे धीरे चल रहे थे और मैं सुख में डूब चुकी थी. वो मेरे लेग्स की घुटनों तक मालिश कर रहे थे. थेंक गॉड मैंने अंदर पेंटी पहन रखी थी वरना उनको मेरी चूत भी दिख जाती. पेटीकोट काफी ऊपर आ चूका था, वो मेरी फिट पर फिंगर्स को बड़े ही अलग तरीके से आयल से रब कर के घुमा रहे थे. मुझे अलग ही सुख मिल रहा था. मेरा तो मन हो रहा था की मैं पेटीकोट भी उतार दूँ और वो अपने पॉवरफुल हाथों से मेरी लोअर बेक और थाई को भी रब कर दे रहे थे. मैं शर्म से बोल ना पाई. मैंने अपने हसबंड को बस फ्रेंची में फुल मसाज लेते हुए देखा है. कुछ देर बाद वो मेरा मसाज कर के रुक गए और बोले क्यूँ? अभी और कर दूँ? वो लोअर बेक पे पेटीकोट पर हाथ रख के बोले कमर का भी कर दूँ क्या?

मैं बोली नहीं अब बहुत आराम है. आप के हाथो में जादू है. मैं अभी वैसे ही लेटी थी तो वो बोले आप मुझसे मत शरमाओ, मेरा तो काम ही यही है. आप को कैसा ही मसाज करवाना है तो बोल दो बस मेरे को. मैं उठ के बैठ गई और पेटीकोट खुल गया तो दूध को हाथ से छिपाते हुए बोली और भी कोई मसाज होता है जिसमे औरत चरम आनंद पर चली जाती है? वो बोला आप दूध का मसाज करवा क देखो आराम ना मिले तो कहना. मैं बोली की दूध का किस लिए. तो वो बोले की आप को पैन इसलिए है क्यूंकि आप के दूध बड़े और भारी है. मैं हु कह कर हाँ बोली.. वो बोले आप दूध की मालिश करवा लो तो आप को आराम मिलेगा. मैं शर्म से बोली पर आप ये सब किसी को बताना नहीं. उनके मजबूत हाथ से मुझे बड़ा ही आनंद और आराम मिला था. वो बोले नहीं नहीं आप भी ना बोलना किसी को आप जैसा कहोगी वैसा मसाज कर दूंगा. तो मैंने कहा आप जांघ और दूध दोनों का मसाज कर दो.

वो बोले आप पेटीकोट उतार दो तो मैं कमर और जांघ की मालिश कर दूँ. मैं सुन के हैरान थी और थोडा सोची और वो बोले मुझे मत शरमाओ, आराम से लेट जाओ. मैंने पेटीकोट उतार के साइड में रख दिया और सेम पोजीशन में लेट गई. अब मैंने बस पेंटी पहन रखी थी. फिर उन्होंने आयल मेरी लोअर बेक पे डाला और दबा के मसाज करने लगे. उनके हाथ से मेरी कमर दबाने पर मुझे बड़ी जोर का करंट जैसा लगता था और मेरा पैन भी गायब हो रहा था. मैं उम्म्म अहम्म्म्म की आवाज अपनेआप निकल रही थी. उनके हाथ कमर पर कभी रब करते थे तो कभी फिंगर्स से गोल घुमाते. कमाल का जादू कर दिया उन्होंने और मैं एकदम एकदम लाईट फिर करने लगी थी. वो मेरी खूबसूरती की भी तारीफ़ कर रहे थे की मेरे पति बहुत लड़की है. और मैं इतनी सेक्सी उन और वो मेरे जिस्म्की तारीफ़ कर रहे थे. उनकी बातें और मसाज दोनों से ही मुझे मस्ती मिल रही थी. उन्होंने काफी देर मेरी लोअर बेक का बड़ी पॉवर से मसाज किया और मेरा सारा पेन निकाल दिया. bukovsky2008.ru

मैं आराम से लेटी हुई उनकी बातो का जवाब ह्म्म्म अह्ह्ह में दे रही थी और मेरी आवाज मसाज में डूबे हों से ब्रेक हो रही थी और फिर अंकल ने मेरी जांघ पे आयल डाला और उनके हाथ मेरी जांघो पर ऊपर निचे होने लगे. वो कभी जांघ में कही दबाते तो कही रब करते. उनके हाथ मेरी जांघ में ऊपर तक पेंटी में जा रहे थे. मुझे बड़ी गजब की सेंसेशन हो रही थी. मैं ये मजा और लेना चाहती थी और अंकल ने मेरी इनर जांघो को खूब बढ़िया से मालिश की. मेरी सांस तेज चल रही थी और मुझे बड़ी मस्ती मिल रही थी. उनके हाथ अब मेरी पेंटी के निचे के हिप्स को दबा रहे थे. फिर वो बोले एक मिनिट रुकना बस और ये कह के उन्होंने अपने हाथ मेरी कमर पे ले गए और पेंटी को साइड से पकड लिया. मेरी सांस तो रुक ही गई थी. मैं कुछ समझ पाती उसके पहले उन्होंने मेरी पेंटी को साइड से पकड़ा और ऊपर की और पुल कर दिया.

मेरी पेंटी हिप्स के बिच में चली गई और मेरे दोनों हिप्स फुल ओपन हो गए और साइड्स में खुल गए. मैं शर्म से सोच रही थी की मेरे हिप्स काफी बड़े है. वो बोले बस अब ठीक है. उन्होंने हिप्स पे आयल लगा के मालिश करना स्टार्ट कर दिया और मुझे फिर से मजा मिलने लगा. वो मेरे हिप्स को हर तरफ से कुछ ख़ास तरीके से दबा रहे थे. और ऐसा करने से मुझे आराम मिल रहा था. मुझे अब शर्म नहीं लग रहा था क्यूंकि मेरे हिप्स बड़े है. मैं बस आराम से लेटी हुई आनंद ले रही थी. बड़े होने से उनके हाथ मेरे हिप्स को पूरा पकड़ नहीं पा रहे थे. कुछ देर तक वो हिप्स के बिच में साइड में और अंदर की तरफ अच्छे से मालिश करते रहे. मैं अब काफी गरम हो चुकी थी पर अभी पुसी मसाज बोलने की मेरी हिम्मत नहीं थी. मैं सोच रही थी की अंकल खुद ही बोले पर ऐसा नहीं हुआ. फिर अंकल ने हिप्स पे एक हाथ मारा और बोले मालकिन हो गया मसाज आप का, अब मैं चलूँ! bukovsky2008.ru

तभी उनका फोन बजा और वो धीरे धीरे से बातें करने लगे. उनकी बीवी उनको बुला रही थी. वो जाने के लिए उठे ही थे की मैं उनको बोली आपने बड़ा अच्छा मसाज किया पता नहीं फिर कब मौका मिले. अगर आप थोडा टाइम निकाल के दूध का भी कर देते तो मुझे बड़ा आराम मिलेगा.

वो बोले ठीक है आप उलटी लेट जाओ. मैं जल्दी जल्दी से कर देता हूँ. फिर उन्होंने जल्दी से मेरे दूध पे आयल डाला और पहले नेक के पास शोल्डर की मालिश करने लगे. फिर वो मेरे ऊपर चेस्ट की मालिश करने लगे. अब उनके हाथ मेरे दूध और निप्क्स को रब कर रहे थे.

वो अभी मेरे दूध को दबा रहे थे और बोले अभी भी आप के दूध बड़े है पर टाईट है और मुझे दूध का ख्याल रखने के तरीके बताने लगे. मैं आराम से डूबी हुई उनकी बातें सुन रही थी और वो मी दूध को अच्छे से मसाज दे रहे थे.

फिर वो मेरे निपल्स रब करने लगे. मुझे गुडगुडी से आराम मिलने लगा. वो बोले मेरे पास मसाजर होता तो आप को और भी मजा आता. उनके रब करने से मेरे निपल्स गरम और इरेक्ट हो गए थे और काफी उठे हुए दिखने लगे थे. निपल्स अब चार्ज हो के पुरे खड़े हुए थे.

कुछ देर उन्होंने मेरी निपल्स को पुल और रब किया और फिर बोले आप आराम करिए अब मैं चलता हूँ. मुझे देर भी हो रही है मैं कल आता हूँ. और वो धीरे पिछले डोर से चले गए. मैं वही पर न्यूड लेटी हुई थी और मुझे यकीन नहीं हो रहा था की मैंने अंकल जी से नंगा मसाज करवाया!

और अब मुझे अगले दिन का ही वेट था. मैं इतनी गरम हो चुकी थी की मुझसे रहा नहीं गया और अपनी प्यास को बुझाने के लिए मैंने तुरंत अलमारी से एक डिलडो और वायब्रेटर निकाला और अपनी पुसी को रब किया. bukovsky2008.ru

मेरी चूत तो पहले से ही गरम और गीली थी. मैं वायब्रेटर को रब कर रही थी और मस्ती ले रही थी. मुझे चूत पे रब करने के बाद मस्ती मिल रही थी और मेरी क्लाइटोरिस भी अब एकदम टाईट हो गया था. मैं वायब्रेटर से क्लाइटोरिस को हिला रही थी. अंकल के मसाज और बातों से मेरी कामवासना एकदम जाग गई थी. मैं डिलडो से पुसी पे मज़ा लेती रही और कुछ देर में ओर्गास्म से मेरा पानी निकल गया और मैं वही पड़ी हुई अगले दिन अंकल से पुसी का मसाज करवाने के बारे में सोचने लगी. अब मुझे नेक्स्ट दिन का इंतज़ार था.

Share this Story:
loading...

Warning: This site is just for fun fictional SexyStories | To use this website, you must be over 18 years of age


Online porn video at mobile phone